सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है नींबू पानी, जानिए कैसे

06 जनवरी 2019   |  मिताली जैन   (45 बार पढ़ा जा चुका है)

सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है नींबू पानी, जानिए कैसे  - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

नींबू की गिनती एक स्वास्थ्यवर्धक पेय पदार्थ में की जाती है। अगर कोई बढ़ते वजन से परेशान है तो उसे सुबह उठकर खाली पेट नींबू पानी पीने की ही सलाह दी जाती है। जहां नींबू में मौजूद विटामिन सी इम्युन सिस्टम को मजबूत बनाने के साथ अन्य कई तरह के लाभ प्रदान करता है। अक्सर देखने में आता है कि लोग इसके लाभों को ध्यान में रखते हुए इसका सेवन दिन में कई बार करते हैं। लेकिन क्या आप इस बात से वाकिफ हैं कि अगर इसका सेवन आवश्यकता से अधिक किया जाए तो इससे कई तरह के नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं। तो चलिए जानते हैं नींबू पानी से होने वाले नुकसानों के बारे में-


पेट पर प्रभाव


एक बात आप अच्छी तरह समझ लें कि किसी भी चीज की अति क्षति का कारण बनती है और यही नियम नींबू पानी पर भी लागू होता है। जहां एक ओर नींबू पानी का सेवन बढ़े हुए पेट को कम करने का काम करता है, वहीं दूसरी ओर यह पेट खराब होने का कारण भी बन सकता है। दरअसल, इसके सेवन से शरीर में खाना पचाने वाले एसिड की मात्रा बढ़ जाती है और पेट में दर्द व जलन की समस्या होती है। बेहतर होगा कि नींबू पानी का सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाए।


एसिडिटी व सीने में जलन


जब व्यक्ति को हैवीनेस का अहसास होता है, तो वह लाइट फील करने के लिए नींबू पानी का सेवन करता है। लेकिन कभी-कभी यही नींबू पानी एसिडिटी व सीने में जलन की वजह भी बन जाता है। ऐसा नींबू में मौजूद एसिड के कारण होता है। चूंकि नींबू पानी पाचन क्रिया पर प्रभाव डालता है और इसलिए इसका सेवन एसिडिटी व गैस की समस्या को बढ़ावा देता है।


दांतों की क्षति


दांतों के पीलेपन से निजात पाने के लिए नींबू के छिलके को दांतों पर रगड़ते हैं और इसके प्रयोग से दातों में चमक भी आती है। लेकिन वहीं दूसरी ओर, नींबू पानी के अत्यधिक सेवन का सबसे बड़ा नुकसान भी दांतों को ही पहुंचता है। दरअसल, नींबू के पानी में सिटस एसिड पाया जाता है जो दांतों की बाहरी परत के लिए नुकसानदेह होता है। अगर इसका सेवन ज्यादा किया जाए तो इससे टूथ एनमल कमजोर हो जाता है।


बढ़ाए हेल्थ प्राॅब्लम


कई तरह की हेल्थ प्राॅब्लम में नींबू पानी का सेवन न करने की सलाह दी जाती है। मसलन, अगर किसी को माइग्रेन है या फिर अस्थमा की शिकायत है तो उसे नींबू पानी का सेवन बेहद सोच-समझकर करना चाहिए क्योंकि नींबू पानी उनकी समस्या को बढ़ा सकता है। वहीं अगर किसी व्यक्ति को मुंह में छाले या हल्के घाव हैं, उनके लिए नींबू पानी का सेवन काफी पीड़ादायी हो सकता है। नींबू में मौजूद साइट्रिक एसिड न सिर्फ आपके घावों को बढ़ाएगा बल्कि इससे घाव या छालों के बढ़ने की समस्या भी हो कसती है। इसलिए हमेशा पहले मुंह के घाव या छालों को पूरी तरह ठीक होने दें।


हो सकती है मतली या उल्टी


यह तो हम सभी जानते हैं कि नींबू में विटामिन सी पाया जाता है जो शरीर के लिए एक आवश्यक विटामिन है। लेकिन वहीं अगर दूसरी ओर, इस विटामिन की शरीर में अधिकता हो जाए तो इससे मतली या उल्टी की समस्या पैदा हो सकती है। इसलिए नींबू पानी का सेवन करें लेकिन इसकी मात्रा का भी ध्यान रखें।


लगातार आता पेशाब


कुछ लोग अपने वजन को कम करने या बाॅडी को डिटाॅक्स करने के चक्कर में एक दिन में कई गिलास नींबू पानी का सेवन कर लेते हैं। लेकिन ऐसा करने पर व्यक्ति को बार-बार बाथरूम जाने की शिकायत होती है और जब व्यक्ति बार-बार पेशाब आता है तो इससे बाॅडी डिहाइडेट हो जाती है। दरअसल, नींबू पानी के माध्यम से शरीर में अतिरिक्त पानी जमा हो जाता है और जब आप मूत्रत्याग करते हैं तो शरीर से इलेक्ट्रोलाइट्स और सोडियम भी बाहर निकल जाते हैं। जो कई बार शरीर के निर्जलीकरण का कारण बनता है।


शरीर में अधिक लौह तत्व


शरीर में आयरन के अब्जार्बशन के लिए विटामिन सी की आवश्यकता होती है। लेकिन जब अधिक नींबू पानी का सेवन करने से शरीर में विटामिन सी की अधिकता होती है तो इससे आयरन का अवशोषण भी अधिक होने लगता है। इस प्रकार नींबू पानी का अधिक सेवन शरीर में विटामिन सी के साथ-साथ आयरन की अधिकता का कारण भी बनता है जो स्वास्थ्य के लिए हितकर नहीं है। आयरन की अधिकता शरीर के आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचा सकती है।


स्किन कैंसर का खतरा


अत्यधिक नींबू पानी का सेवन स्किन के लिए भी अच्छा नहीं माना जाता। कुछ अध्ययन बताते हैं कि अधिक मात्रा में नींबू के रस या अन्य खट्टे फलों का सेवन करने से मेलेनोमा नामक स्किन कैंसर का खतरा कई गुना तक बढ़ जाता है। ऐसे में यह आवश्यक हो जाता है कि नींबू पानी का सेवन सीमित मात्रा में ही किया जाए। साथ ही कभी भी स्किन पर नींबू के रस को अप्लाई करके बाहर नहीं निकलना चाहिए। नींबू में मौजूद रासायनिक तत्व जब धूप के संपर्क में आते हैं तो इससे स्किन पर काले धब्बे व सनबर्न होने की संभावनाएं कई गुना तक बढ़ जाती है।


कमजोर होती हड्डियां


अगर आप चाहते हैं कि आपकी हड्डियों की डेंटिसिडी लंबे समय तक बनी रहे तो नींबू पानी के सेवन को सीमित करें। इनका आवश्यकता से अधिक सेवन हड्डियों पर भी विपरीत प्रभाव डालता है। ऐसा इसमें मौजूद एसिड के कारण होता है।


किडनी स्टोन का खतरा


आपको शायद पता न हो लेकिन नींबू पानी का आवश्यकता से अधिक सेवन किडनी में स्टोन पैदा कर सकता है। दरअसल, नींबू पानी में सिट्रस एसिड के साथ-साथ आॅक्सलेट पाया जाता है और जब इसका सेवन अधिक किया जाता है तो यह तत्व शरीर में क्रिस्टल के रूप में इकट्टा होने लगता है और व्यक्ति को किडनी में स्टोन की समस्या का सामना करना पड़ता है।




शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x