आपकी यह छोटी-छोटी गलतियां बन जाती हैं कमरदर्द का कारण

17 फरवरी 2019   |  मिताली जैन   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

आपकी यह छोटी-छोटी गलतियां बन जाती हैं कमरदर्द का कारण - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

पीठ की समस्या आज के समय में बेहद आम है। पहले जहां सिर्फ बढ़ती उम्र में ही लोग कमरदर्द से जूझते थे, वहीं आज के समय में युवाओं को भी इस दर्द से दो-चार होना पड़ता है। आमतौर पर लोग इसे नजरअंदाज करते हैं, जिससे स्थिति और भी अधिक बिगड़ जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे आपकी कुछ छोटी-छोटी गलतियां जिम्मेदार होती हैं। अगर उन पर ध्यान दिया जाए तो बिना दवाईयों के सेवन से भी कमर दर्द से काफी हद तक निजात पाई जा सकती है-


गलत पाॅश्चर


कमरदर्द का एक सबसे आम कारण है गलत पाॅश्चर। जब लोग गलत तरीके से बैठते, लेटते या चलते हैं तो इससे उनकी कमर पर विपरीत असर पड़ता है। दरअसल, गलत पोश्चर के दौरान शरीर का रक्त संचार प्रभावित होता है जिससे कमर और कमर के निचले हिस्से में दर्द होता है।


भारी सामान उठाना


अक्सर हम देखते हैं कि सिर्फ आॅफिस में बैठने वाले ही नहीं, बल्कि जिन लोगों का काम ज्यादातर बाहर का होता है, उन्हें भी कमर में काफी दर्द होता है। इसके पीछे का कारण है घंटों भारी बैग लटकाकर घूमना। इससे आपकी बॉडी खासकर स्पाइन का बैलेंस खराब होता है। एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपके बैग का कुल वजन आपके शरीर के वजन का 10 फीसदी से ज्यादा बिल्कुल नहीं होना चाहिए।


घंटों बैठना


अगर आपकी डेस्क जाॅब है तो खुद को हेल्दी बनाए रखने और कमरदर्द से दूरी बनाए रखने के लिए एक-दो घंटे में अपनी सीट से उठकर इधर-उधर घूमें। ऑफिस में लगातार बैठना कमर के लिए काफी खतरनाक है। दरअसल, जब आप लगातार बैठे रहते हैं तो स्पाइन पर अधिक दबाव पड़ता है। इसी तरह जो लोग घंटों एक जगह बैठकर टीवी देखते हैं, उन्हें भी कमरदर्द की परेशानी अधिक होती है।


सोने का तरीका


बेहतर नींद अच्छे स्वास्थ्य के लिए बेहद आवश्यक है, लेकिन सोने का तरीका स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित करता है। अगर हर सुबह उठते ही आपको कमर में दर्द होता है तो अपने सोने के तरीके पर ध्यान दें। साथ ही सोने के लिए बेहद नर्म गद्दे का प्रयोग न करें। इससे कमरदर्द की शिकायत बढ़ सकती है। कोशिश करें कि गद्दा थोड़ा कठोर हो, जो पीठ और कमर के लिए सहयोगी हो। वहीं अगर आपका मैट्रेस 10 साल से ज्यादा पुराना है तो उसे बदल दें। ऐसे मैट्रेस से आपकी कमर को सपोर्ट नहीं मिलता और कमरदर्द की परेशानी शुरू हो जाती है।


एक ही गतिविधि


आमतौर पर लोग प्रतिदिन एक ही काम को कई घंटों तक लगातार करते हैं, जिसके कारण शरीर के विभिन्न अंगों में दर्द हो सकता है। मसलन, अगर आप आॅफिस या फैक्ट्री में एक ही काम को बार-बार करते हैं तो इससे उन्हें कमरदर्द अधिक होता है। इसलिए आप चाहे जो भी काम करते हों, उसमें नियमित अंतराल पर ब्रेक अवश्य लें।


बढ़ता मोटापा


आपको शायद पता न हो लेकिन आपका आहार भी कमरदर्द की एक मुख्य वजह बन सकता है। जब आप जंक फूड व बाहर का खाना खाते हैं तो इससे वजन बढ़ने लगता है, जिसका सीधा असर कमर पर होता है। दरअसल, वसा का अत्यधिक जमाव कई बार आपकी मांसपेशियों में दर्द पैदा करने का काम करता है, जो लगातार बना रहता है। इतना ही नहीं, वजन ज्यादा होने पर ऑस्टियोपोरोसिस होने की आशंका भी काफी बढ़ जाती है। इसलिए वजन को संतुलित रखने का प्रयास करें। इससे आप कमरदर्द के साथ-साथ अन्य कई तरह की परेशानियों से आसानी से बच जाएंगे।


फुटवियर का चुनाव


गलत फुटवियर सिर्फ पैर को ही परेशानी नहीं देता, बल्कि इसके चलते कमर में दर्द की संभावना भी कई गुना बढ़ जाती है। हमेशा किसी अच्छी कंपनी का कंफर्टेबल फुटवियर ही चुनें। साथ ही फुटवियर का चुनाव करते समय इस बात का भी ध्यान रखें कि आप न तो हाई हील्स पहनें और न ही बिल्कुल फ्लैट पहनें। पीछे से सपोर्ट वाले सैंडल्स पहनना बेहतर है क्योंकि इससे पैर का बैलेंस बना रहता है।


व्यायाम और कमरदर्द


व्यायाम और कमर में दर्द का आपस में गहरा नाता है। जो लोग बिल्कुल भी व्यायाम नहीं करते, उनका वजन तो बढ़ता है ही, साथ ही शरीर की मांसपेशियां भी कमजोर हो जाती हैं, जिससे कमरदर्द की परेशानी शुरू होती है। इतना ही नहीं, व्यायाम न करने से हड्डियों को भी नुकसान होता है और कमजोर हड्डियां आस्टियोपोरोसिस व कमरदर्द का कारण बनती हैं। इसलिए नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डालें। इसके अतिरिक्त बहुत अधिक व्यायाम करना या फिर व्यायाम करते समय पाॅश्चर का ध्यान न रखने से भी कमर में तीव्र दर्द होता है।


अत्यधिक तनाव


स्ट्रेस मेंटल हेल्थ के साथ-साथ शरीर के लिए भी उचित नहीं माना जाता। तनाव कई तरह की परेशानियों की वजह बनता है। इन्हीं मंे से एक है कमरदर्द। इसलिए जितना हो सके, खुद को रिलैक्स रखने की कोशिश करें। खुद को तनावमुक्त रखने के लिए आप अपनी पसंद का कोई भी काम कर सकते हैं जैसे गाने सुनना, मेडिटेशन करना आदि।


धूम्रपान करना


धूम्रपान करने से जहां एक ओर कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है, वहीं दूसरी ओर इसके चलते कमरदर्द भी होने लगता है। दरसअल, स्मोकिंग के कारण पीठ के टिशू डैमेज हो जाते है।


ड्राइविंग के दौरान


ड्राइविंग के दौरान कमरदर्द की शिकायत बेहद आम मानी गई है। अधिकतर समस्याएं इसलिए पैदा होती हैं क्योंकि आप कार की सीट के साथ सही तरीके से एडजस्ट नहीं करतें या अपना सिर आगे की ओर अधिक रखते हैं। इसलिए ड्राइविंग के दौरान सही तरह से बैठें।


सूरज से दूरी


यह सही है कि सूरज की हानिकारक किरणें स्किन को नुकसान पहुंचाती हैं, जिसके कारण लोग सूरज की रोशनी से दूरी बनाना पसंद करते हैं। लेकिन सूरज की रोशनी के कम संपर्क में आने से भी कई समस्याएं पैदा होती है। कमरदर्द की समस्या उनमें से एक है। दरअसल, सूरज की रोशनी न लेने से शरीर में विटामिन डी की कमी होती है। पीठ दर्द को कम करने के लिए विटामिन डी की मात्रा का अधिक सेवन करना वास्तव में बहुत सहायक होता है। इतना ही नहीं, विटामिन डी की कमी होने पर शरीर में कैल्शियम का अब्जार्बशन नहीं होता और हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। जिससे कमर दर्द के साथ-साथ शरीर के अन्य भागों में भी दर्द होता है।




शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें
02 फरवरी 2019
कहते हैं कि जल ही जीवन है। अर्थात पानी के बिना व्यक्ति के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। वैसे भी मनुष्य के आधे से अधिक शरीर पानी से ही बना है। यह पानी ही शरीर की कार्यप्रणाली को सही तरह से कार्य करने के लिए प्रेरित करता है और अगर इसकी कमी हो जाए तो व्यक्ति को कई गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता
02 फरवरी 2019
03 फरवरी 2019
ठंड के मौसम में पुदीना मार्केट में बेहद सस्ता व आसानी से उपलब्ध होने वाली चीज है। कई तरह के पेय पदार्थों से लेकर भोजन में इसे प्रयोग करने की सलाह दी जाती है। इसका इस्तेमाल करने से जहां एक ओर खाने का स्वाद बढ़ता है, वहीं दूसरी ओर इससे कई
03 फरवरी 2019
04 फरवरी 2019
बचपन में बच्चे ऐसे कई चीजें करते हैं, जो बड़े होते-होते कहीं पीछे छूट जाती हैं। फिर चाहे बात खेलने कूदने की हो या मस्तमौला स्वभाव की। वक्त बीतने के साथ यह सभी आदतें व्यक्ति के स्वभाव में नजर नहीं आतीं। लेकिन बचपन की ऐसी बहुत सी आदतें होती हैं, जो बड़े होने पर भी यदि बरकरार रखी जाए तो इससे कई तरह के ला
04 फरवरी 2019
05 फरवरी 2019
पोषक तत्वों से युक्त पालक को किसी न किसी रूप में डाइट में शामिल करने की सलाह दी जाती है। वैसे तो पालक को सब्जी या परांठों के रूप में भी खाया जाता है लेकिन आप चाहें तो इसे बतौर जूस भी ले सकते हैं। पालक का जूस लेने से इसके पोषक तत्व यूं ही बरकरार रहते हैं। तो चलिए जानते हैं पालक के जूस से होने वाले फा
05 फरवरी 2019
06 फरवरी 2019
बदलती जीवनशैली ने लोगों की बहुत सी आदतों को प्रभावित किया है। इन्हीं में से एक है सुबह जल्दी उठने की आदत। वर्तमान समय में, लोग देर रात तक कंप्यूटर या लैपटाॅप पर लगे रहते हैं, जिसके कारण उनकी जल्द आंख ही नहीं खुलती। आपको भले ही इसमें कोई बुराई नजर न आती हो लेकिन अगर आप जल्दी उठने का नियम बनाते हैं तो
06 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
भारत में शायद ही कोई घर हो, जहां पर मधुमेह ने अपने पांव न पसारे हो। मधुमेह जैसे एक आम बीमारी बन गई है लेकिन इसके कारण अन्य कई गंभीर समस्याएं जन्म लेती है। मधुमेह के कारण एक ओर जहां व्यक्ति मनपसंद आहार नहीं ले पाता, वहीं दूसरी ओर उसे हर समय आवश्यक दवाईयों ाके अपने साथ रखना पड़ता है। इतना ही नहीं, अगर
07 फरवरी 2019
07 फरवरी 2019
घर पर गर्भावस्था की जांच (प्रेग्नेंसी टेस्ट) करने से आपके पेशाब में गर्भावस्था के हॉर्मोन ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोफिन की मौजूदगी का पता चलता है। अधिकांश टेस्ट माहवारी चूकने के पहले दिन ही आपको बता सकते हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं। अधिक संवेदनशील जांचे तो आपकी माहवारी की नियत तिथि से कुछ दिन पहल
07 फरवरी 2019
08 फरवरी 2019
आज के समय में हर व्यक्ति एक आकर्षक पर्सनैलिटी पाने की चाह रखता है और यह तभी संभव है, जब आप देखने में भी उतने आकर्षक व सुडौल हो। जो लोग जरूरत से ज्यादा दुबले-पतले होते हैं, उन पर कोई भी कपड़ा नहीं खिलता और न ही वह भीड़ में अपनी अलग से पहचान बना पाते हैं। सामान्य से कम वजन भी किसी परेशानी से कम नहीं है।
08 फरवरी 2019
10 फरवरी 2019
अगर बच्चा बड़ा होने के बाद भी सोते समय बिस्तर गीला कर दे तो माता-पिता की परेशान होना लाजमी है। कुछ अभिभावक बच्चों की इस आदत से चिंतित होते हैं तो कुछ गुस्से में बच्चों को डांटने लगते हैं। लेकिन दोनों ही तरीकों को अपनाकर बच्चे की इस आदत को नहीं छुड़वाया जा सकता। अगर आप सच में चाहते हैं कि बच्चा बिस्तर
10 फरवरी 2019
13 फरवरी 2019
अगर भोजन के साथ प्याज न हो, तो खाने में मजा ही नहीं आता। लोग सिर्फ सब्जी बनाते समय ही प्याज का इस्तेमाल नहीं करते, बल्कि सलाद के रूप में इसे कच्चा भी खाया जाता है। वैसे यह अलग बात है कि लोग इसे काटना कम पसंद करते हैं क्योंकि इसे काटते समय आंखों से आंसू आते हैं। लेकिन क्या आप इस बात से वाकिफ हैं कि प
13 फरवरी 2019
14 फरवरी 2019
हम सभी ने बचपन में कभी न कभी अपने बड़ों से सुना है कि हर रोज सुबह उठकर तांबे के बर्तन में रखा पानी पीना चाहिए। बहुत से घरों में तो आज भी बड़े-बुजुर्ग खाली पेट सबसे पहले तांबे के बर्तन में रखा पानी पीते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि तांबे के बर्तन में रखा पानी पीने से सेहत को किस तरह लाभ पहुंचता है।
14 फरवरी 2019
19 फरवरी 2019
पपीते का एक ऐसा फल है, जो हर मौसम में आसानी से मिल जाता है। स्वाद से भरपूर यह फल सेहत के लिए भी कई मायनों में लाभदायक है। यूं तो लोग पपीते का सेवन करते हैं लेकिन इसके पत्तों को बेकार समझकर फेंक देते हैं। शायद आपको पता न हो लेकिन पपीते के पत्ते भी उतने ही गुणकारी है। इतना ही नहीं, यह कई बड़ी बीमारियों
19 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
टमाटर हर घर में आसानी से मिल जाता है। कभी आप इसे सब्जी के रूप में खाते हैं तो कभी सलाद के रूप में। वैसे अक्सर शाम के समय लोग घरों में इस सूप भी बनाया जाता है। आप भी बड़े चाव
21 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए घरेलु नुस्खेबियर पीने के फायदे – बियर पीने के औषधीय गुणवायरल फीवर का घरेलू उपचारमहावारी लाने के उपाय | अनियमित मासिक धर्मअखरोट के फायदे, अखरोट कैसे खाना चाहिए
21 फरवरी 2019
22 फरवरी 2019
पुराने समय में जब लोग फिजिकल एक्टिविटी काफी अधिक करते थे, तो उन्हें खुद को तंदरूस्त रखने के लिए अलग से समय निकालने या एक्सरसाइज करने की जरूरत नहीं पड़ती थी। लेकिन आज के समय में जब अधिकतर काम उंगलियों पर ही होने लगा है तो अपनी फिटनेस को बरकरार रखने के लिए व्यायाम करना जरूरी हो गया है। इस लिहाज से रनिं
22 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
कैंसर का नाम सुनते ही मन में एक डर समा जाता है। अमूमन लोगों का मानना है कि कैंसर होने के बाद व्यक्ति का बचना काफी मुश्किल होता है। लेकिन सच्चाई इससे अलग है। कैंसर यकीनन घातक है, लेकिन व्यक्ति अपनी जान से तभी हाथ धोता है, जब वह इसके लक्षणों को नजरअंदाज करता है। स्थिति बिगड़ने पर जब व्यक्ति को असलियत क
24 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
अक्सर ऐसा होता है, जब आप बेहद जल्दी कुछ गरमागरम खा-पी लेते हैं तो जीभ जल जाती है। ऐसे में व्यक्ति को तकलीफ तो काफी होती है, लेकिन समझ में नहीं आता कि क्या किया जाए। जीभ में जलन होने पर वहां पर दवाई लगाना संभव नहीं होता। ऐसे में काम आते हैं कुछ घरेलू उपाय। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ बेहद आसान उपायों
24 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
कुछ लोगों की दूसरों और ज़रूरतमंदों के प्रति निःस्वार्थ भावना हमें चकित कर देती है. 14 फ़रवरी को कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गयी. लोग शहीदों के परिवारों की मदद के लिए आगे आने लगे. इसी कड़ी में राजस्थान के अजमेर से एक मिसाल पेश क
25 फरवरी 2019
26 फरवरी 2019
हम सभी ने बचपन में यह सुना है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए। सुबह जल्दी उठने वाला व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है, बल्कि उसे कभी भी समय की कमी का रोना नहीं रोना पड़ता। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो सुबह जल्दी उठना तो चाहते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कर पाते। अगर आपका नाम भी ऐसे ही लोगों की लिस्ट मंे शुमार है
26 फरवरी 2019
27 फरवरी 2019
एक कहावत “Health is Wealth” अर्थात स्वास्थ्य ही धन है। हर व्यक्ति चाहता है कि वो अपने पूरे जीवन में स्वस्थ्य रहना चाहता है ताकि उसे अपने काम के लिए कभी किसी का सहारा न लेना पड़े। हर कोई ये मानता है कि जीवन में स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन होता है जो कि हमेशा हमारे साथ रहता है और हर मुश्किल में हमारी सहा
27 फरवरी 2019

हमारे 500 से अधिक डॉक्टरों से फोन पर सलाह लीजिये

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x