व्यायाम करने का सही समय |Best Time for Exercise in Hindi

13 मार्च 2019   |  डॉ मुकुल पांडेय   (73 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यायाम करने का सही समय |Best Time for Exercise in Hindi - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

आज के समय भाग-दौड़ भरी जिदंगी में लोगों के पास शारीरिक फिटनेस के लिए समय नहीं बच पाता है ऐसे में लोगों को बहुत सारी बीमारी घेर लेती है जिससे कि उनका जीवन अस्त-व्यस्त हो जाता है। हालांकि की कुछ लोग ऐसे भी है जो अपने शरीर की फिटनेस को लेकर काफी चिंतित रहते है और उनके मन में ये सवाल रहता है कि आखिर दिन के किस समय में व्यायाम करना ज्यादा लाभकारी होगा। व्यायाम करने का सही समय ढूँढना व्यक्तिगत पसंद के बारे में उतना ही है जितना कि शरीर विज्ञान है। व्यायाम करना शरीर के लिए अच्छा माना जाता है, लेकिन अगर सुबह मांसपेशियों को तंग किया जाता है तो यह बहुत देर से काम करने और नींद में खलल डालता है।आज हम आपको व्यायाम करने के सही समय के बारें में बताएंगे-

सुबह के समय में व्यायाम


सच्चाई तो यह है कि सही समय से सुझाव देने के लिए कोई विश्वसनीय सबूत नहीं है कि दिन के किस निश्चित समय में कैलोरी अधिक कुशलता से जलाया जाता है। लेकिन दिन का समय यह प्रभावित कर सकता है कि व्यायाम करते समय आप कैसा महसूस करते हैं। सुबह के समय में व्यायाम करनें से ये फायदे होते है-

सुबह के समय शांति का माहौल- सुबह का वातावरण बहुत ही आनंदमय रहता है और चारों तरफ शांति सा महसूस होता है इसलिए सुबह का वर्कआउट लाभदायक होता है क्योंकि सुबह के समय शाम के अपेक्षा भीड़ कम होती है और आप जिम में भी अपने मनचाहे उपकरणों और अपनी इच्छा के अनुसार कैसे भी वर्कआउट कर सकते हैं। मशीन या उपकरण से होने वाली एक्सरसाइज में शाम के समय अत्यधिक भीड़ देखी जाती है जिस कारण कभी-कभी आप अपने मनचाहे उपकरणों का प्रयोग भी नहीं कर पाते हैं।


सुबह का समय सुविधाजनक

जब भी कभी हम बाहर जाते हैं तो सोचने लगते हैं कि बाहर जाने पर क्या पहनना है और यदि बार-बार कपड़े बदलने हो तो गुस्सा और आलस दोनों आता है। यदि हम वर्कआउट के लिए शाम का समय चुनते हैं तो बिल्कुल इसी तरह का रवैया होता है। इसलिए सुबह के समय में एक्सरसाइज करने के लिए कौन से कपड़े पहनने हैं इसके लिए ज्यादा सोच विचार की जरूरत नहीं होती है और आपका समय भी नष्ट नहीं होता।


नियमितता बनी रहती है

आजकल के समय में ज्यादातर हर कोई व्यस्त रहता है या ऑफिस में देर तक काम भी करते रहते हैं जिसके कारण व्यायाम के लिए समय निकाल पाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। ऐसे में यदि आप एक्सरसाइज का समय सुबह के लिए चुनते हैं तो आपका समय बचता है, जिसे आप परिवार, दोस्तों, या किसी महत्वपूर्ण कार्य को करने में उपयोग कर सकते हैं। एक बार सुबह एक्सरसाइज करने की आदत पड़ जाए तो फिर यह नियमित तरीके से भी की जाएगी।

सुबह उठना स्वास्थ्य के लाभदायक

सुबह जल्दी उठने के लिए रात को समय से सोने की आदत बेहद जरूरी है और स्वास्थ्य के लिए भी बहुत लाभदायक है। सुबह जल्दी उठकर नियमित रूप से व्यायाम करने वाले लोगों को दिन भर में सुस्ती नहीं रहती और रात में चैन की नींद सोते हैं। कभी-कभी ठीक तरीके से नींद न पूरी होने से शरीर में तनाव हार्मोन कॉर्टिसोल का संतुलन बिगड़ जाता है जिससे हम तनावग्रस्त और आलस्य महसूस करते हैं।

शाम के समय व्यायाम करने के फायदे

वर्कआउट को यदि रोचक तरीके से किया जाए तो यह अत्यधिक मनोरंजक बनता है जिसका लाभ उठाने के लिए हम नियमित रूप से वर्कआउट करने के लिए तत्पर रहते हैं। ऐसे में यदि आप उपयुक्त साथी या जिम पार्टनर के साथ कोई भी वर्कआउट करते हैं जैसे ट्रेडमिल पर पसीना बहाने की प्रतिस्पर्धा, ट्रेडमिल पर तेज दौड़ने का कंपटीशन या हैवी वेट लिफ्टिंग का कंपटीशन, तो यह एक खेल के जैसा बन जाता है जिससे मनोरंजन होने के साथ-साथ वर्कआउट बहुत बेहतर तरीके से होता है।


तनाव मुक्त करता है

कभी-कभी तनाव होने के कारण शरीर में तनाव हार्मोन कोर्टिसोल के बढ़ने की संभावना होती है जिस कारण अत्यधिक भूख लगने पर लोग ज्यादा खाते हैं और वजन भी बढ़ने लगता है। किसी कारण से यदि आपका ऑफिस में समय अच्छा नहीं बीता और आप तनाव में हैं तो शाम को जिम में जाकर आप अपनी फ्रस्ट्रेशन को निकाल सकते हैं, तो इस तरह थकान और तनाव से भरे दिन के बाद शाम को कसरत करके ताजगी और सुकून मिलता है।


रक्त का प्रभाव बेहतर रहता है

शरीर के ऊतकों में रक्त का अच्छा प्रवाह रहने के लिए शाम को वर्कआउट करना बेहतरीन होता है। इससे शरीर में गर्मी उत्पन्न होती है जिससे पसीने के द्वारा विषाक्त पदार्थ और बैक्टीरिया निकल जाता है। नियमित एक्सरसाइज करने से मांसपेशियों को भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन मिलती है और रक्त संचार अच्छा होता है जिससे यह ऊर्जा को बढ़ाने के साथ-साथ सतर्कता को भी बढ़ाता है।

भूख को उत्तेजित करने में

वर्कआउट करने से अत्यधिक कैलोरी बर्न होती है जिससे अधिक मात्रा में भूख उत्तेजित होती है। इस तरह शरीर में अलग तरह के पोषक तत्व शरीर के अंदर प्रवेश करते हैं जिससे हमारे शरीर की कार्यशीलता बढ़ती है। वर्कआउट करते हुए पसीने का स्त्राव होने से ज्यादा पानी पीने की भी अच्छी आदत पड़ जाती है।

शाम के समय में एक्सरसाइज करने वाले लोगों में अधिक क्षमता होती हैं और उर्जा को भी बचाते हैं। दरअसल शाम को व्यायाम करने वाले लोग दिन भर में अपनी उर्जा को संरक्षित करते हैं और पूरे दिन ताजगी और ऊर्जा से भरपूर रहते हैं जिस कारण वह शाम का वर्कआउट पूरे जोश के साथ करते हैं।




शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें
05 मार्च 2019
05 मार्च 2019

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये