ऐसा पदार्थ जिसे खाएं-पिएं बगैर ही हो जाए मौत

05 अप्रैल 2019   |  डॉ मुकुल पांडेय   (652 बार पढ़ा जा चुका है)

ऐसा पदार्थ जिसे खाएं-पिएं बगैर ही हो जाए मौत

एकदम सही पढ़ा आपने एक ऐसा पदार्थ भी है जिसका स्वाद चखे बिना ही और उसका स्वाद बताए बिना ही उसको जीभ पर रखने मात्र से हो मौत हो जाती है। चलिए अब आपके आपके मन में उमड़ रहे इस सवाल का जबाव दे देते है आपने सायनाइड का नाम तो सुना ही होगा, अगर नहीं चलिए आज हम इस लेख के माध्यम से आपको इससे जुड़े तथ्यों और मिथकों के बारें में बताएंगे जिससे कि आप सायनाइड जहर के बारें में जान सकें-


क्या होता सायनाइड जहर?


यह एक प्रकार का जहर है जो अन्य जहर से अलग होता है इसमें कार्बन नाइट्रोजन नामक पदार्थ मौजूद होता है। यह इतना खतरनाक होता है कि इसे खाने के बाद इसके स्वाद को बताने से पहले ही मौत हो जाती है। सायनाइड जहर के खाने के बाद शरीर में उपस्थित कोशिकाओं और ऑक्सीजन के बीच एक दीवार के रुप में कार्य करने लगती है और जाहिर सी बात है कि अगर शरीर के कोशिकाओँ को ऑक्सीजन नहीं मिलेगा तो उनमें मृतक कोशिकाओं की संख्या बढ़ने लगेगी और व्यक्ति की मौत हो जाती है।


सायनाइड की खोज


स्वीडिश रसायन वैज्ञानिक कार्ल विलहेल्म ने सन् 1782 में सायनाइड जहर की खोज की थी। साइनड जहर घातक जहर तो है लेकिन इससे भी अधिक खतरनाक जहर धरती पर मौजूद है। सायनाइड जहर गैस और ठोस अवस्था में पाया जाता है और इसका ठोस अवस्था सबसे खतरनाक होता है और इसके अधिक मात्रा के सेवन पर यह शरीर को कुछ ही समय में मौत के घाट उतार सकता है। सायनाइड के अलावा इस विश्व में अन्य घातक जहर के रुप में पोलोनियम, डाइऑक्सिन, और डिमेथिलमरकरी शामिल है।


क्लिक कर जानें- जल्दी मोटा होने के होने के उपाय


सायनाइड के खाने पर


अगर सायनाइड जहर को द्रव के रुप में अगर लिया जाए तो व्यक्ति मौत चंद पलों में हो जाती है अगर उसे ठोस के रुप में सेवन किया जाए तो इसका प्रभाव इसके मात्रा पर निर्भर करता है और इसके संपर्क में आने से तेज सिरदर्द, सांस लेने में दिक्कत और बहोशी छा जाती है। इसके अलावा पेट में दर्द, गहरी नींद में सो जाना और व्यक्ति कोमा में पहुंच सकता है। अगर मात्रा अधिक हुई तो यह शरीर में 10-15 मिनट के अंदर सेवन करने वाली की मौत हो जाती है।


क्लिक कर पढे़ें- पाचन शक्ति बढ़ाने के अचूक उपाय


सायनाइड के संपंर्क के आने पर इलाज


इस सायनाइड जहर के संपर्क के आने पर गला घुटने और सांस लेने में काफी तकलीफ की स्थिति पैदा हो जाती है और कोशिकाओं तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाता है। सायनाइड जहर के प्रभाव में आने पर इसका इलाज रोगी के स्थिती पर निर्भर करता है और डॉक्टर पता लगाने की कोशिश करते है कि आखिर वह कैसे इसके संपर्क में आया। स्थिती पता लगने के अनुसार ही इलाज प्रारंभ हो जाता है। रोगी की स्थिती गंभीर होने डॉक्टर शरीर में ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए पीड़ित के शरीर में ऑक्सीजन मास्क के जरिए इसकी पूर्ति करता है और शरीर में उपस्थित जहर व विषैला पदार्थ को बाहर निकालने के लिए विशेष दवाओं को उपलब्ध करवाते है।


क्लिक कर जानें- पीरियड्स रुकने पर क्या करें



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये