टीबी के उपचार में आसान घरेलू उपाय | TB Ka Gharelu Ilaz In Hindi

24 अप्रैल 2019   |  डॉ मुकुल पांडेय   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

टीबी के उपचार में आसान घरेलू उपाय | TB Ka Gharelu Ilaz In Hindi - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

भारत देश में टीबी रोग एक महारोग के रुप में फैल चुका है टीबी के कारण वर्षभर में लाखों लोगों की मौत हो जाती है इसका एक प्रमुख कारण यह भी इस रोग के बारें में लोगों में जानकारी का अभाव है। टीबी मानव शरीर में माइकोइक्टीरियम ट्युबरक्लोसिस बैक्टीरिया के कारण फैलती है। यह कोई अनुवांशिक रोग तो नहीं होता है लेकिन अगर परिवार में मौजूद किसी भी एक सदस्य को अगर टीबी हो जाए बाकि लोगों में इसके संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि इस बीमारी में रोगियों के छीकनें और खांसने के कारण जीवाणु फैल जाते है। आज हम इस लेख के जरिए आपको टीबी रोग से छुटाकारा पाने के लिए घरेलू उपाय के TB Ka Gharelu Ilaz In Hindi बारें में बताएंगे जिसे अपनाकर आप इस गंभीर बीमारी से काफी हद तक छुटकारा पा सकते है-


टीबी के लक्षण | Symptoms Of TB In Hindi


हम आपको टीबी रोग होने पर कुछ लक्षणों के बारें बताएंगे जिन्हें जानकर आप टीबी रोग को आसानी से पहचान सकते है। टीबी के रोगियों में सबसे अधिक लक्षण 2-3 सप्ताह तक लगातार खांसी के रहने और साथ में बलगम आना होता है। इस रोग फेफड़ों से संबंधिक बीमारी होने के कारण रोगी को काफी खांसी, छींक, सांस फूलना, सांस लेने में तकलीफ आदि तमाम प्रकार की समस्या हो सकती है। कई बार रोगियों को खांसी के साथ खून भी आने लगाता है जिसे देखकर रोगी काफी भयभीत हो जाता है। निम्न प्रकार के लक्षण भी टीबी के रोगियों में पाए जाते है-


1-सांस लेते समय कठिनाई

2-वजन में तेजी से गिरावट

3-ठंडे वातावरण में पसीना आना

4-कई दिनों तक बुखार रहना

5-कमर में दर्द

6.रात में पसीना आना

7.शारीरिक बनावट में गिरावट

8.सांस लेने में काफी दिक्कत महसूस करना


उपरोक्त लक्षणों के होने पर यह टीबी रोग होने का संकेत हो सकता है। अधिक जानकारी के लिए आप अपने नजदीकी अस्पताल में संपर्क करें ताकि इस लक्षणों को पुष्टि हो सकें।


क्लिक कर जानें- फेफड़ो के कैंसर के लक्षण व उपचार




टीबी होने पर घरेलू उपाय | Home Remedies For TB


केले का उपयोग- केले में काफी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो टीबी रोगियों के लिए रामबाण साबित होता है। यह रोगी के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और बुखार और कफ को कम करने में भी केले के सेवन काफी लाभप्रद सिद्ध होता है। केले को आप मसलकर नारियल के पानी में मिला दें और उसके बाद इस मिश्रण में शहद और दही को मिलाएं। बाद इन सबको अच्छी तरह से मिलाकर इसका सेवन करें ऐसा आपको दिन में करीब 2-3 बार करना होगा।


लहसुन का इस्तेमाल- लहसुन में काफी मात्रा में सल्फयूरिक एसिड पाया जाता है जो टीबी की कीटाणुओं को नष्ट करने में सक्षम होते है। इसके साथ लहसुन में एंटीबैक्टीरियल और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के गुण भी पाए जाते है जो टीबी रोग को खत्म करने में काफी प्रभावी होते है। आप लहसुन की कुछ कलियों को लेकर दूध में उबालें। उसके बाद उबली हुई कलियों को खा लें उसके बाद दूध का भी पी लें। आप इस विधि को कम से कम 15-20 दिनों तक दोहराएं। आप लहसुन के जूस को गर्म दूध में भी मिलाकर सोने से पहले पी सकते है यह भी टीबी रोग को खत्म करने में काफी प्रभावशाली होता है।


क्लिक कर जानें- टीबी रोग होने के कारण,लक्षण व उपचार


काली मिर्च का उपयोग- आप अगर टीबी रोग को खत्म करना चाहते है तो इसके लिए कालीमिर्च एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। काली मिर्च सूजनरोधी गुण शामिल होते है जो बैक्टीरिया और कफ को कम करने में भी सहायक होते है। आप 10-12 काली मिर्च के दानों लेकर इसे बटर में मिला लें उसके बाद इन मिश्रण में थोड़ा हींग पाउडर मिला दें। बाद में इस मिश्रण का सेवन कुछ घंटो के अंतराल पर करें। इससे आपको लगातार कफ की समस्या से छुटकारा मिलेगा।


पुदीना का उपयोग- टीबी के इलाज में पुदीना काफी कारगर साबित होता है इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते है जो बलगम को खत्म करने में करने में सहायता प्रदान करता है। आप पुदीने के रस में शहद और सिरका को मिलाए। इसके बाद एक गिलास गाजर के जूस में सभी मिश्रण को मिलाएं और पूरे जूस को कुछ समय के अंतराल में पियें।


अखरोट का इस्तेमाल- अखरोट के सेवन शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता में काफी इजाफा होता है। टीबी के रोगियों को अखरोट का सेवन करना चाहिए यह काफी लाभप्रद होता है। आप अखरोट के फल को पीसकर इसमें लहसुन की पिसी हुई कुछ कलियों को मिलाए। इस मिश्रण को ताजे मक्खन में मिलाकर इसका सेवन करें। आप इस विधि को रोजाना दिन में एक बार अवश्य करें। ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने पर आप इसके लाभ को महसूस करने लगेंगे।


इनके अतिरिक्त भी टीबी के रोगियों को कुछ सावधानियां है जो बरतनी चाहिए। इस लेख के माध्यम से हम आपको रोगियों को सेवन और परहेज के बारें में बताएंगे जिससे टीबी के रोगियों को बीमारी को खत्म करने में सहायता मिल सकें-


क्लिक कर जानें- दमा रोग के लक्षण व इलाज


टीबी होने पर क्या खाएं | What To Eat If You Have TB


1-टीबी होने पर आप दूध और उससे बने उत्पादों का सेवन करना चाहिए।

2-ताजे और मौसमी फलों व उसके रस का सेवन करना चाहिए।

3-हरी सब्जियां, टमाटर, शंकरकंद और पालक का सेवन करना चाहिए।

4.आप भोजन में खिचड़ी का सेवन भी कर सकते है।

5.साबुत अनाज का सेवन करें।


टीबी होने पर क्या नहीं खाएं |Do Not Eat If You Have TB


1.ज्यादा तले और भुने वस्तुओं को खाने से परहेज करना चाहिए।

2.टीबी रोग के होने पर चाय और कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए। ( क्लिक कर जानें- चाय पीनें नुकसान के बारें में )

3.ध्रूमपान और शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए।

4.ज्यादा तेल में बनी चीजों को खानें से परहेज करना चाहिए।

5.कुकीज, केक और प्रेस्ट्री आदि वस्तुओं के सेवन करने से टीबी के मरीजों को बचना चाहिए।


क्लिक कर जानें- गले के कैंसर कारण व इलाज



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये