विटामिन 'बी' के फायदे - Vitamin 'B' Benefits in Hindi

20 मई 2019   |  डॉ.स्नेहा दुबे   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

Vitamin 'B' Benefits in Hindi- मानव शरीर को कई तरह के मिनरल्स की जरूरत होती है जिनमे आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन जैसे तत्व शामिल हैं और इनकी कमी से व्यक्ति को कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं. स्वास्थ्य को सही रखने के लिए व्यक्ति बहुत कुछ करता है लेकिन अगर उसने जरूरी तत्वों से भरपूर फूड आइटम्स का सेवन नहीं किया तो उनका शरीर अंदर से कमजोर होने लगता है जिसका पता उन्हें बाद में चलता है. प्रोटीन की कमी या आयरन की कमी होने से कई बीमारियां व्यक्ति को घेर सकती हैं.




क्या है विटामिन बी ? What is Vitamin 'B' ?


विटामिन बी 8 वसा में घुलनशील विटामिंस समूह होता है जो सेलुलर मेटाबॉलिज्म में अहम भूमिका निभाता है. ये रासायनिक और जैविक रूप से एक-दूसरे से परस्पर अलग होते हैं लेकिन कई फूड आइटम्स ऐसे होते हैं जिसमें विटामिन बी पाया जाता है. विटामिन बी समूह के अलग-अलग स्रोत हैं. विटामिन बी 1 का अच्छा स्रोत गेंहू, संतरा, हरे मटर, अंडे, चावल, मूंगफली, हरी सब्जियां और अंकुरित बीज होते हैं. विटामिन बी 2 का अच्छा स्रोत मछली, चावल मटर, गेंहू, मछली, अंडे की जर्दी मिले होते हैं. विटामिन बी 7 का अच्छा स्रोत होता है जिसमें गेंहू, बाजरा, मैदा, सोयाबीन, चावल और ज्वार होते हैं.


विटामिन बी की कमी के लक्षण- Vitamin B deficiency symptoms


शरीर को पूरी तरह से स्वस्थ रखने के लिए व्यक्ति अलग-अलग तरह की चीजों की जरूरत होती है. पर्याप्त मात्रा में विटामिन्स मिनरल्स, प्रोटीन्स, कार्बोहाइड्रेट्स और फाइबर शरीर के विकास के लिए बहुत जरूरी होता है. इन सभी में से एक विटामिन ऐसा है जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन बी बहुत जरूरी होता है. अगर आपको इसकी कमी हो जाती है तो इन लक्षणों से पहचान करके उसका उपचार करें.

1. कमजोरी महसूस करना या जल्दी थक जाना

2. आलस आना

3. कमजोर पाचन शक्ति

4.रक्त की कमी

5. सिर दर्द

6. हाथ-पैर में झुनझुनी महसूस होना

7. कान में आवाज सुनाई देना

8. धड़कन तेज होना

9. मुंह में छाले होना

10. याद्दाश्त कम होना

11. आंखें कमजोर होना

12. चिड़चिड़ापन होना

13. अनियमित मासिक धर्म


इतने प्रकार के होते हैं विटामिन बी कॉम्पलेक्स - Types of Vitamin B Complex


बी1 (थायामिन)– यह विटामिन पोषक तत्वों को ऊर्जा में बदलने में और चयापचय में अहम भूमिका में होता है. इस विटामिन की प्राप्ति स्रोतों में पोर्क (सुअर का मांस), सूरजमुखी के बीज और गेहूं में होती है.

बी2 (राइबोफ्लेविन)– राइबोफ्लेविन भोजन को अपघटित कर ऊर्जा उत्पन्न करने में मदद करता है और एंटीऑक्सीडेंट के रूप में भी काम करता है. राइबोफ्लेविन के अच्छे स्त्रोत के रूप में मांस और मशरूम मिला होता है.

बी3 (नियासिन)– यह विटामिन चयापचय, डीएनए उत्पादन और उसकी मरम्मत करने में एक महत्वपूर्ण होता है. खाद्य स्रोतों के रूप में चिकन, टूना फिश (tuna) और दाल मिला होता है.

बी5 (पैंटोथैनिक एसिड)– दूसरे विटामिन बी की तरह पैंटोथैनिक एसिड भी शरीर को ऊर्जा प्रदान करने में मदद करता है, और हार्मोन और कोलेस्ट्रॉल उत्पादन में भी अपना योगदान रहता है. मछली, दही और एवोकैडो आदि में यह विटामिन प्रचुर मात्रा में शामिल होता है.

बी6 (पायरीडॉक्सीन)– पायरीडॉक्सीन एमिनो एसिड चयापचय, लाल रक्त कोशिका उत्पादन और न्यूरोट्रांसमीटर के निर्माण में शामिल होता है. इस विटामिन के सबसे अच्छे स्त्रोत के रूप में चने, सैल्मन फिश और आलू शामिल होता हैं.

बी7 (बायोटिन)– कार्बोहाइड्रेट और वसा के चयापचय के लिए बायोटिन (विटामिन बी3) जरूरी है, इसके साथ-साथ जीन अभिव्यक्ति को भी नियंत्रित करता है. खमीर, अंडे, सैल्मन, पनीर बायोटिन के सर्वोत्तम खाद्य स्रोतों में शामिल होते हैं.

बी9 (फोलेट)– कोशिका विकास, एमिनो एसिड चयापचय, लाल और सफेद रक्त कोशिकाओं का निर्माण और उचित कोशिका विभाजन के लिए फोलेट बहुत जरूरी होता है. यह पत्तेदार हरी सब्ज़ियां और सेम जैसे खाद्य पदार्थों में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है.




विटामिन बी के फायदे - Benefits of Vitamin B


विटामिन बी बहुत तरीके से फायदेमंद होता है लेकिन ये गर्भवती महिलाएं, जिनकी ज्यादा उम्र हो, जो लोग ज्यादा दवा लेते हैं, शाकाहारी लोगों के लिए जरूरी होता है. विटामिन बी के सेवन से लोगों को कुछ इस तरह के फायदे हो सकते हैं. विटामिन बी सच में विटामिन का एक ऐसा समूह है जिसमें 8 प्रकार के विटामिन शामिल होते हैं. ये सभी प्रकार के विटामिन शरीर में अलग-अलग कार्यों को करने में अपनी भूमिकाएं निभाते हैं.

थकावट के लिए- विटामिन बी1 की ज्यादा मात्रा भोजन में उपस्थित कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में बदलने में मदद होती है. ऊर्जा के स्तर में वृद्धि के लिए विटामिन बी 2, बी 3, बी 5 और बी 7 जरूरी हैं. इन विटामिन्स में होने वाली कमी सुस्ती और थकावट का कारण बन जाती है.

गर्भवती के लिए- गर्भवती महिलाओं के लिए विटामिन बी9 बहुत जरूरी होता है क्योंकि यह स्वस्थ भ्रूण और बच्चे के विकास में खास भूमिका निभाता है. यह विटामिन आपको तनाव और अवसाद (depression) से भी बचाता है.

कोलेस्ट्रोल के लिए- विटामिन बी3 खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में कमी करने और अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बढ़ाने के लिए बहुत जरूरी होता है.

स्वास्थ्य के लिए- विटामिन बी कॉम्प्लेक्स तंत्रिका तंत्र को स्वस्थ बनाए रखने में मददगार होता है. इसके लिए आवश्यक विटामिन बी1, बी6 और बी12 को शामिल किया गया हैं.

स्किन के लिए- नाखून, बालों और त्वचा की स्थिति में सुधार करने के लिए विटामिन बी कॉम्प्लेक्स मदद करता है.

ज्वाइंट्स के लिए- विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, गर्दन की अकड़न के इलाज और दर्दनाक जोड़ों के दर्द को कम करने में मददगार साबित होता है.

मस्तिष्क के लिए- मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के सामान्य कार्य के लिए विटामिन बी -12 जरूरी है. यह लाल रक्त कोशिकाओं के गठन में भी शामिल है और डीएनए बनाने और विनियमित करने में मदद करता है.

रक्त कोशिकाओं के लिए- व्यक्ति के शरीर में हर मिनट लाखों लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन होता है. ये कोशिकाएं विटामिन बी -12 के बिना ठीक से वृद्धि नहीं कर सकती हैं और विटामिन बी -12 के स्तर बहुत कम होने पर लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन कम हो जाता है. लाल रक्त कोशिका की गिनती कम होने पर एनीमिया जैसी बीमारी भी हो सकती है.



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये