डैंड्रफ हटाने के तरीके

24 मई 2019   |  डॉ अंजली कश्यप   (29 बार पढ़ा जा चुका है)


डैंड्रफ हटाने के तरीके


सिर में डैंड्रफ होना एक आम बात हो गई है नए जमाने की जीवनशैली में 80 फीसदी लोगों के सिर में रूसी की समस्या देखी जाती है। कई बार ऐसा भी होता है कि रूसी की समस्या हो जाने के बाद बालों की जड़मजोर होना शुरू हो जाती है और धीरे-धीरे बाल गिरने भी शुरू हो जाते हैं। ये किसी भी उम्र में होने वाली समस्या है लेकिन 15 से 50 साल के बीच के लोगों में ये समस्या खासतौर पर दिखाई देती है।


खासकर सर्दियों में स्कल्प रूखा होने की वजह से डेंड्रफ जल्दी होता है। सिर से गिरती रूसी शर्मिंदगी की वजह बन जाती है और इससे बाल भी जल्दी सफेदहोने लगते हैं। स्कैलप्स पर जमी फंगस की परत रूसी का प्रमुख कारण होती हैं।


रूसी होने के कारण हैं-Due to being Dandroff


सर्दियों में सर में रूसी का ज्यादा असर होता है। सर्दियों में गर्म पानी से नहाने की वजह से सिर की त्वचा ज्यादा रूखी हो जाती है जिसकी वजह से सिर में डेंड्रफ का असर ज्यादा होता है। इसके अलावा सर्दियों में सिर में स्कार्फ और कैप लगाने की वजह से भी सिर को पर्याप्त हवा नहीं मिल पाती जिससे सिर में रूसी बढ़ जाती है।


हार्ड शैंपू का प्रयोग भी बालों में रूसी की समस्या का कारण बनता है। रोज रोज शैंपू बदलने और कैमिकल युक्त शैंपू यूज करने से सिर की त्वचा पर असर पड़ता है जिससे रूसी हो जाती है। बाजार में कई तरह के शैंपू मौजूद हैं इसलिए डेंड्रफ से परेशान लोगों को माइल्ड और हर्बल शैंपू पर विश्वास जताना चाहिए।


आमतौर पर ऑयली बाल वालों को सिर में रूसी की समस्या से बहुत परेशानी उठाना पड़ता है। सिर में तेल के रहने से सिर की त्वचा चिपचिपी हो जाती है जिससे बालों में गंदगी जमा हो जाती है और ये गंदगी ही डेंड्रफ को बुलावा देती है। इस गंदगी की वजह से बाल भी टूटने लगते हैं। इतना ही नहीं सही खानपान न होने के कारण भी बाल ऑयली हो जाते हैं जिसके कारण सिर में रूसी की समस्या हो जाती है। ज्यादा तला भुना खाने से भी सिर के बालों में तेल आ जाता है जो रूसी का कारण बनता है।


बरसात के मौसम में भी सिर में रूसी का खतरा बढ़ जाता है। क्योंकि इस दौरान गीले बालों में नमी बनी रहती है और इस दौरान बरसात का पानी सिर में जाने से चिपचिपाहट बढ़ जाती है। इस चिपचिपाहट से डेंड्रफ का खतरा बढ़ जाता है औऱ सिर में रूसी हो जाती है। बरसात का पानी सिर में जाने से कीटाणुओं का भी खतरा होता है जिससे डेंड्रफ ही नहीं और भी बीमारियां पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है।


जिन लोगों को थायराइड की समस्या होती है, उन लोगों को डेंड्रफ का ज्यादा सामना करना पड़ता है। थायराइड में सिर की त्वचा रूखी हो जाती है औऱ बाल टूटने और झड़ने लगते हैं। सिर की रूखी त्वचा पर रूसी जल्द हमला बोलती है। थायराइड से पीड़ित अधिकतर लोग इस समस्या से दो चार दिखेंगे।



इन घरेलु तरीको से पाएं डेंड्रफ से राहत-These Domestic ways Relief from Dendroff


इन उपायों के बल पर आपके सिर से रूसी छूमंतर हो जाएगी और आपके बाल भी मुलायम और रेशमी बने रहेंगे। ये सभी उपाय बालों को लंबे समय तक मजबूती भी प्रदान करते हैं।

चार चम्मच खसखस दूध में पीस कर बालों की जड़ों में लगाएं। आधे घंटे बाद सिर धोएं। धोने में शैम्पू का इस्तेमाल करें। सप्ताह में दो बार इस तरह बाल धो लें।


चार बड़े चम्मच बेसन एक बड़े गिलास पानी में घोलकर बालों पर मलें और सिर धो लें। डैंड्रफ खत्म हो जाएगा।


रात को छिलके सहित अरहर की दाल पानी में भिगो दें। सुबह इसे पीसकर सिर में लगा लें। आधे घंटे बाद सिर धोएं। फिर गीले बालों में ही कंघी करें।


सप्ताह में दो बार दही से बालों को धोने से डैंड्रफ मिट जाती है।


पांच चम्मच पिसे आंवले को रात को आधा कप पानी में भिगो दें, सुबह इस पानी से सिर धो लें।


चुकंदर के पत्तों को पानी में उबालकर सिर धोने से डैंड्रफ दूर हो जाती है।


रीठे से सिर धोने पर भी डैंड्रफ से छुटकारा मिल जाता है।


नारियल के तेल में कपूर मिलाएं और यह तेल अच्छी तरह बालों में तथा सिर पर लगाएं।


नींबू के रस को बालों में लगाएं। कुछ समय बाद सिर धो लें।


बालों में तेल लगाने के बाद अच्छे से शैंपू करें और उसके बाद किसी भी अच्छे माउथवॉश को स्केल्प पर लगाएं। 5-10 मिनट लगाए रखने के बाद इसे पानी से धो लें।


नींबू में हल्का-सा बेसन और दही मिलाकर स्केल्प पर लगाएं। इसके अलावा, नींबू में लहसुन का पेस्ट मिलाकर भी इस्तेमाल किया जा सकता है।


दो टेबल स्पून बेकिंग सोडा में उतना ही पानी मिलाएं जिससे वो जैल की तरह दिखने लगे। इस जैल को सिर में लगाकर 15. मिनट के लिए छोड़ दें। उसके बाद सिर को अच्छी तरह धो लें।


पानी में सिरका मिलाकर सिर को अच्छी तरह धोएं। इस उपाय को सप्ताह में दो बार जरूर करें।


सिर की त्वचा पर अंडे का पेस्ट लगाकर आधा घंटे के लिए छोड़ दें, इसके बाद सिर को अच्छी तरह धो लें।


चार से पांच चम्मच नींबू का रस लें औऱ इसमें उतनी ही मात्रा में नारियल तेल मिला लें। इससे स्कल्प पर अच्छी तरह से मालिश करें और सिर पर गीला तौलिया लपेट लें। आधे घंटे बाद सिर धो लें।


मेथी के कुछ दाने लेकर रात भर के लिए भिगो दें। सुबह इनको पीसकर इनका लेप सिर की त्वचा पर लगाएं।


मुल्तानी मिट्टी को रात भर पानी में भिगोकर रख दें। सुबह इसका लेप बनाकर उसमें नींबू का रस मिलाएं और बालों पर 20 मिनट के लिए लगाएं। फिर सिर धो दें।


सरसों के तेल से रात को सिर की अच्छी तरह मालिश करें। रात को गर्म पानी में भिगोया हुआ तौलियां सिर पर कुछ देर के लिए लपेटें औऱ सो जाएं। अगले दिन सिर को धो लें।


एलोवेरा का जैल बाजार में मिलता है। इस जैल से सिर की अच्छी तरह मालिश करें और घंटे भर बाद सिर धो लें।




शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये