बाल झड़ने के लक्षण और उसे रोकने के अचूक उपाय

31 मई 2019   |  डॉ.स्नेहा दुबे   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

एक दौर था जब उम्र बढ़ने के साथ ही बालों का झड़ना भी आम हो जाता था लेकिन अब समय बदल गया है. आज के समय में बाल हर उम्र के लोगों के झडऩे लगे हैं और इसका खामियाजा युवाओं को अपने बालों को कुर्बान से करना पड़ रहा है. बाल झड़ने से रोकने के लिए लोग कई तरह के उपाय करते हैं लेकिन उसका समाधान नहीं हो पाता और फिर ये सबसे बड़ी समस्या बन जाती है खासकर लड़कियां अपने बालों को लेकर बहुत सतर्क रहती हैं. बालों को काले, घने और मजबूत बनाने के लिए लोगों को घरेलू उपाय ही अपनाने चाहिए जिससे कोई आगे बालों को कोई परेशानी नहीं हो. hair fall remedies at home के इस्तेमाल के बारे में मैं आपको बताती हूं.


बाल को झडऩे से रोकना

बाल झड़ने के कारण


बालों के झड़ने का कारण एक व्यक्ति से दूसरे से बहुत अलग होता है. कुछ मामलों में बाहरी कारण बाल झड़ने के कारण बनते हैं तो कुछ लोगों को दूसरी बीमारी के कारण बाल झड़ने की शिकायत हो जाती है. वैसे बाल झडऩे के पीछे पोषण की कमी और आनुवांशिकता जैसे मुद्दे भी गंजेपन के कारण बन जाते हैं. वैसे आगे मैं आपको बताऊंगी बाल झड़ने के और भी कारण-

1. गंजापन अक्सर जीन के माध्यम से होता है, अगर आपके पैरेंट्स को बाल झडऩे की समस्या है तो संभावित रूप से आपको भी ये समस्या होगी ही. केवल पुरुषों को ही नहीं बल्कि महिलाओं को भी बाल झड़ने की समस्या अपने बुजुर्गों से विरासत में मिलती है.

2. शरीर में हार्मोनल चेंजेज भी बालों के झडऩे का कारण बनते हैं. बालों की जड़ों को कमजोर करते हैं और बाल झड़ने का कारण बन जाता है. मीनोपॉज, ओवेरियन सिस्ट, हाइपोथायरॉइड आपके शरीर में हार्मोनल संतुलित में बदलाव लाते हैं और जिससे बाल झड़ने लगते हैं.

3. बर्थ कंट्रोल पिल्स भी बाल झड़ने का कारण बन जाता है. गोली के हार्मोन जो ओव्यूलेशन को दबाते हैं वो बालों को पतला कर देते हैं.

4. गर्भावस्था के दौरान और उसके बाद भी ज्यादातर महिलाओं को अक्सर निर्जलीकरण, थकान और हार्मोनल असंतुलन का एहसास होता है. इससे बालों के रोम में संवेदनशीलता बढ़ती है और ये सभी कारण एक साथ जीर्ण बालों के झडऩे लगते हैं.

5. लगातार बीमारी, ज्यादा वजन घटाने या शारीरिक परिश्रम से भी शरीर डिहाइड्रेट होने लगता है. यह बालों के रोम को कमजोर करता है और बालों के झड़ने का कारण बन जाता है.

6. खोपड़ी में फफूंद लगना, बैक्टीरियल और वायरल संक्रमण जैसे कि सेबोरहेरा डर्मेटाइटिस और सोरायसिस, जड़ों को कमजोर करते हैं.

7. कुछ मेडिकेशन और ट्रीटमेंट्स भी बालों के झड़ने का कारण बन जाते हैं. उपचार के दुष्प्रभाव अक्सर बालों के रोम को नुकसान पहुंचाते हैं और तेजी से बालों के झड़ने का कारण बनते हैं.

8. थायराइड और एंटी-थायराइड की दवाएं खाने से भी बालों का झड़ना शुरु हो जाता है. इसके सफल उपचार से अक्सर बाल वापस उगते हैं, लेकिन कुछ मामलों में बालों का झड़ना स्थाई हो जाता है.

9. अक्सर लोग अपने बालों को स्टाइलिश दिखाने के लिए कलर करा लेते हैं जिसके कारण बाल कमजोर हो जाते हैं. हेयर ट्रीटमेंट और हॉट स्टाइलिंग टूल्स के प्रयोग करने पर बाल झड़ते हैं.

10. शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी, अचानक रक्त की हानि, और शरीर में अपर्याप्त लोहे का स्तर न केवल थकान, कमजोरी और सिरदर्द का कारण बनता ही है इसके साथ ही बाल भी झड़ने लगते हैं.


बाल झडऩे के प्रकार


टेलोजन एफ्लूवियम- अगर आप स्कैल्प पर बालों के झड़ने से परेशान हैं तो संभावित रूप से आपको टेलोजन एफ्लूवियम हुआ है. टेलोजन एफ्लुवियम तब होता है जब आपके रोम के 20 प्रतिशत भाग अचानक टेलोजन फेज में चले जाते हैं और इस स्थिति में जो बाल सक्रिय रूप से उग रहे हैं उनके रोम की संख्या कम हो जाती है. इससे बालों का वॉल्यूम कम होता है और गंजेपन की समस्या शुरू होने लगती है.

एंड्रोजेनिक एलोपेसिया- इस तरह का हेयर लॉस ज्यादातर महिलाओं में होता है और इसे महिलाओं के गंजेपन के रूप में भी जाना जाता है. जब मेल सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन को डाइहाइड्रोटेस्टोस्टेरॉन में बदल दिया जाता है और बालों के रोम पर हमला शुरू होता है, तो बाल बेकार हो जाते हैं और बालों का विकास रूक जाता है.


बाल को झडऩे से रोकना


बाल झड़ने से रोकने के देसी इलाज


बाल झड़ना व्यक्ति के लिए बहुत परेशानी वाला विषय बन जाता है लेकिन अगर इसका सही समय पर इलाज किया जाए तो इसका समाधान निकल सकता है. बाल झड़ने के कई उपाय होते हैं लेकिन इसके घरेलू उपाय ज्यादा फायदेमंद होते हैं.

नारियल का दूध- नारियल के दूध में प्रचुर मात्रा में विटामिन-ई और फैट होता है जो बालों को मॉस्चराइज्ड रखता है. इस दूध में प्रोटीन, मिनरल्स और दूसरे जरूरी तत्व होते हैं जो बालों को बढ़ने में मदद करता है. नारियल के दूध को सिर पर लगाने से बालों के झड़ना कम हो जाता है. इसके लिए हेयर डाय ब्रश की मदद से नारियल के दूध को अपने सिर पर लगाना चाहिए और किसी चीज से सिर को ढक दें फिर 20 मिनट तक यूहीं छोड़ दें. बाद में बालों को शैंपू से धुल लें.

नीम- नीम में एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं जो डैंड्रफ लड़ने में मदद करता है. इसके अलावा ये सिर को साफ रखते हुए बालों को उगने में मदद करता है. नीम, रक्त प्रवाह को संतुलित रखता है जिस वजह से बालों की जड़ों को पर्याप्त पोषण मिलता है और बाल मजबूत होते हैं जो सिर के जुओं को भी खत्म करते हैं. नीम की पत्तियों को पानी में तब तक उबालें जब तक पानी आधा ना हो जाए और फिर इसे ठंडा होने के बाद इससे बालों को धुलें. बस याद रहे इसका पानी आपकी आंखों में बिल्कुल नहीं जाना चाहिए.

मेथी- मेथी के बीज बालों को बढ़ने में मदद करते हैं और बालों के रोम छिद्रों का फिर से निर्माण कर देते हैं. इसके अलावा ये बालों को मजबूत, लंबा और प्राकृतिक रूप से निखार लाता है. मेथी के बीजों को पानी में डालकर रातभर के लिए भिगो दें और अगली सुबह इसे पीसकर पेस्ट बना लें. अब इस पेस्ट को बालों की जड़ों में लगाकर 40 मिनट तक लगा रहने दें और फिर बालों को धुल लें. इस उपाय को आप महीने में दो बार कर सकते हैं.

अंडा- अंडे में प्रोटीन, विटामिन-बी, बायोटिन और जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं जो बालों के लिए फायदेमंद होते हैं. दो अंडों को तोड़कर उसमें से पीला हिस्सा हटा दं और अब अंडों को मिक्स करें जब तक ये गाढ़ा ना हो जाए. हेयर डाय ब्रश की मदद से इस पेस्ट को बालों की जड़ों में लगाएं और 20 मिनट तक लगे रहने दें फिर बालों को शैंपू से धुल लें.

जैतून का तेल- जैतून के तेल को हल्का गरम करके उसमें एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी मिलाकर लेप बना लें और नहाने के 15 मिनट पहले इसे बालों में लगाएं इससे बाल गिरना बंद हो जाएंगे.

दही- गिरते बालों के लिए दही का प्रयोग भी बढ़ियां होता है. बालों को धोने के आधा घंटे पहले दही को बालों में लगाएं और 10 मिनट बाद बालों को धुल लें. दही में थोड़ा नींबू का रस मिला लें तो बहुत अच्छा होता है इस नुस्खे को हफ्ते में तीन बार इस्तेमाल कर सकते हैं.

एलोवेरा- एलोवेरा को तोड़ने के बाद उससे निकलने वाला जैल बालों में अच्छे से लगाएं. उसे नेचुरल तरीके से ही लगाए और बालों की जड़ों में ज्यादा लगाना चाहिए, इसे लगाने के बाद 15 मिनट तक छोड़ दें और फिर ठंडे पानी से बालों को धुल लें.इस प्रक्रिया को आप हफ्ते में 2 बार कर सकते हैं इससे बालों का झड़ना कम हो जाएगा.



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये