सीने में दर्द- कारण और लक्षण

06 जून 2019   |  डॉ अंजली कश्यप   (54 बार पढ़ा जा चुका है)

जब धमनियों में रक्त का थक्का जमने लगता है तब साँस लेने में मुश्किल होने लगती है और सीने में दर्द शुरू हो जाता है। सीने में दर्द सबसे आम कारणों में से एक है



sine me dard


सीने में दर्द- कारण और लक्षण


सीने में दर्द कई रूपों में दिखाई देता है, जिसमें तेज छुरा से लेकर सुस्त दर्द होता है। कभी-कभी सीने में दर्द कुचल या जलन महसूस करता है। कुछ मामलों में, दर्द गर्दन तक, जबड़े में जाता है, और फिर एक या दोनों भुजाओं के पीछे या नीचे तक विकीर्ण हो जाता है। जो लोग आपातकालीन कक्ष में जाते हैं। छाती का दर्द व्यक्ति के आधार पर भिन्न होता है। यह भी भिन्न होता है-

गुणवत्ता

तीव्रता

अवधि

स्थान


कई अलग-अलग समस्याएं सीने में दर्द का कारण बन सकती हैं। सबसे जानलेवा कारणों में दिल या फेफड़े शामिल हैं। क्योंकि सीने में दर्द एक गंभीर समस्या का संकेत दे सकता है, इसलिए तत्काल चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण है। यह कई सामान्य कारणों से सीने में दर्द हो सकता है। सीने का दर्द साधारणत आनुवंशिकता के कारण, मधुमेह, हाई कोलेस्ट्रॉल, पहले से हृदय संबंधित रोग से ग्रस्त होने के कारण होता है। फेफड़े, मांसपेशियाँ, पसली, या नसों में भी कोई समस्या उत्पन्न होने पर सीने में दर्द होता है।



सीने में दर्द के कारण


उच्च रक्तचाप- जो धमनियाँ रक्त को फेफड़ों तक ले जाती है उसमें जब रक्त का चाप बढ़ जाता है तब सीने में दर्द होता है।


एसिडिटी - यह साधारणत गैस्ट्रो इसोफेगल रिफ्ल्क्स डिज़ीज़ के कारण होता है।


फेफड़ों में रोग- जब रक्त धमनियों में थक्का जमने लगता है तब फेफड़ों के टिशु या ऊतकों में रक्त का प्रवाह रुकने लगता है, ऐसा होने से बेचैनी होने लगती है और साँस लेने में मुश्किल होता है, जो बाद में दर्द का कारण बनता है।


डर के कारण - कभी-कभी दिल में दर्द अत्यधिक डर, अचानक कोई सदमा, दिल की धड़कन के बढ़ने, अत्यधिक पसीना और साँस में तकलीफ के कारण भी होता है।


तनाव- तनाव के कारण दिल की धड़कन तेज हो जाती है, साँस लेने में तकलीफ होने लगती है और रक्त चाप बढ़ जाने के कारण भी हृदय में रक्त संचार की गति को नुकसान पहुँचता है, इन सब कारणों से भी सीने में दर्द होता है।


महाधमनी विच्छेदन- इस जीवन-धमकी की स्थिति में आपके दिल (महाधमनी) से मुख्य धमनी शामिल है। यदि इस रक्त वाहिका की आंतरिक परतें अलग हो जाती हैं, तो परतों के बीच रक्त को मजबूर किया जाता है और महाधमनी का कारण बन सकता है।


हदयकोबीय- यह आपके दिल के आसपास की थैली की सूजन है। यह आमतौर पर तेज दर्द का कारण बनता है जो जब आप सांस लेते हैं या जब आप लेटते हैं तो बदतर हो जाते हैं।


दिल में जलन- आपके स्तन के पीछे यह दर्दनाक, जलन होती है जब पेट का एसिड आपके पेट से ट्यूब में निकल जाता है जो आपके गले को आपके पेट ग्रासनली से जोड़ता है।


पित्ताशय की थैली या अग्न्याशय की समस्याएं- पित्ताशय की थैली या आपके पित्ताशय की थैली या अग्न्याशय की सूजन पेट दर्द का कारण बन सकती है जो आपकी छाती को विकिरण करती है।


पसली में सूजन- इस स्थिति में, आपके पसली के पिंजरे का उपास्थि, विशेष रूप से उपास्थि जो आपके पसलियों को आपके स्तन से जुड़ता है, सूजन और दर्दनाक हो जाता है।




सीने में दर्द के लक्षण


  • सिर चकराना

  • चक्कर

  • साँसों की कमी

  • छुरा या जलन

  • निचोड़ संवेदना

  • जकड़न

  • छाती, गर्दन या बाहों में तेज या सुस्त दर्द और


  • छाती का दबाव या जकड़न।



  • जी मिचलाना




शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये