आप भी हैं दर्द से परेशान, तो जान लें ये ख़ास बातें

21 जून 2019   |  डॉ. सौरभ श्रीवास्तव   (23 बार पढ़ा जा चुका है)

बढ़ती उम्र में जोड़ों के दर्द हो या गठिया, या फिर पुरानी कोई भी खेल-खेल में लगी चोट हो , ये सभी बहुत तकलीफ देह दर्द है , जिसका हम जिसके लिए हम न जाने कितने ही रोग नियंत्रण और रोकथाम (best treatment for arthritis) केंद्रों के चक्कर लगाते हैं. फिर भी जब ठीक नहीं हो पाते तो काम ऐसे आयुर्वेदिक नुस्खे ही आते है जिनको अब आप पढ़ने जा रहे हैं। 50% से कम उम्र के लगभग 80% वयस्कों को कम से कम एक बार पीठ में दर्द होता है, और बहुमत में कई बार घटनाएं होती हैं।

ghutno <a href='https://shabd.in/hashtag/ka-46903'>ka</a> dard ka <a href='https://shabd.in/hashtag/ilaj-71408'>ilaj</a> in hindi

दर्द के विभिन्न प्रकार हैं:

जो दर्द अचानक शुरू होता है वह थोड़े समय के लिये होता है लेकिन पुराना दर्द लंबे समय तक रहता है

हड्डी का दर्द तब होता है जब कैंसर एक हड्डी को प्रभावित कर रहा होता है

नरम ऊतक दर्द तब होता है जब अंगों, मांसपेशियों या ऊतकों में सूजन होती है

हड्डियें में दर्द तब होता है जब एक हड्डी क्षतिग्रस्त हो जाती है

संदर्भित दर्द तब होता है जब आपके शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में दर्द महसूस होता है

प्रेत दर्द तब होता है जब शरीर के एक हिस्से में दर्द होता है जिसे हटा दिया गया है

दर्द हर किसी के लिए एक जैसा महसूस नहीं होता है। अपने दर्द काे स्पष्ट रूप से बताने पर आपके डॉक्टर या नर्स को आपके लिए सबसे अच्छा इलाज खोजने में मदद मिलती है। अपने डॉक्टर को बताएं कि दर्द कहां है, कैसा है (उदाहरण के लिए सुस्त, तेज, जलन) या फिर यह दर्द कितना बुरा है और ऐसा दर्द कब-कब होता है।

कुछ विशेष प्रकार के दर्द


ऑस्टियोआर्थराइटिस (Osteoarthritis) -

यह एक जोड़ों की बीमारी है (muscle pain and joint pain) और यह तब होता है जब हड्डी के जोड़ों को सपोर्ट देने वाले मजबूत कार्टिलेज व कोमल ऊतक कमजोर होकर टूटने लगते हैं। पुरूषों की अपेक्षा महिलाएं ज्यादा प्रभावित हैं। इसके उपचार (Osteoarthiritis medicine in Ayurved) के लिए एलोपैथिक के अलावा कुछ आयुर्वेदिक इलाज भी हैं। जिससे दर्द व अकड़न कम और मांसपेशियों को आराम मिलता है। जैसे- तिल के तेल, दशमूल तेल व निर्गुन्डी तेल से मालिश। दशमूल,देवदारु या एरंडमूल काढ़ा तथा गर्म पानी का सेवन। योगासन (मत्स्येन्द्र आसन, पश्चिमोत्तानासन, गोमुख आसन, भद्रासन, साइकिल चलाना व स्विमिंग) के साथ-साथ धुप लें व वजन घटाएं।

गठिया (Arthritis)

गठिया एक प्रकार से जोड़ों की सूजन है। जिसकी जानकारी होना आवश्यक है - (joint pain in hindi) यह एक संयुक्त या कई जोड़ों को प्रभावित कर सकती है। आपको बता देम कि 100 से अधिक प्रकार के गठिया हैं। सबसे आम प्रकारों में से दो ऑस्टियोआर्थराइटिस (OA) और रुमेटीइड गठिया (RA) हैं। जब गठिया रोग होता है, तो जोड़ों में दर्द और फिर लक्षणों की शुरुआत धीरे-धीरे होती है और यह सबसे अधिक हाथों और पैरों के छोटे जोड़ों में शुरू होता है। यह आमतौर पर शरीर के दोनों तरफ समान जोड़ों को प्रभावित करता है। आज कल घुटने में दर्द एक आम बात हो गयाी है। शरीर में दर्द एक चोट के तुरंत बाद हो सकता है, या यह एक पुरानी चोट के रूप में भी उभर सकता है।

गठिया या घुटने में दर्द के लिए सुरक्षित और प्रभावी उपचार भी हैं। जैसे जड़ी बूटी बोसवेलिया, हल्दी, अश्वगंधा, अदरक, त्रिफला, गुग्गुलु, और शतावरी ये सभी शरीर में रसायनों के उत्पादन को रोक करके सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके इलाज के लिए "RICE" का उपयोग भी कर सकते हैं, जिसका मतलब है कि आराम(Rest), बर्फ(Ice) लगायें, संपीड़न (compressive bandage or ace wrap) पट्टी पहनें, और (knee elevation)अपने घुटने को ऊंचा रखें और अपने वजन को कम करें।

कमर दर्द

आमतौर पर पीठ व कमर दर्द (back pain) का कारण है: मांसपेशियों या जोड़ों में तनाव। बार-बार हैवी लिफ्टिंग या अचानक से मुड़ने पर कमर की मांसपेशियों और स्पाइनल लिगामेंट्स में खिंचाव आ सकता है। यदि आपकी शारीरिक स्थिति ठीक नहीं हैं, तो आपकी पीठ पर लगातार खिंचाव होने से मांसपेशियों में ऐंठन हो सकती है। तेजी से कमर दर्द से राहत पाने के कुछ घरेलू उपाय हैं- व्यायाम करें, मांसपेशियों को फैलाएं, दर्द नाशक क्रीम लगाएं, नींद पूरी करें।

निष्कर्ष - आपको जरा सा भी दर्द हमेशा बना रहता है ऊपर बताए सारे तरीकों को आजमाए. इतना करने के बाद भी आपको ये समस्या बनी रहती हैं तो इसका आयुर्वेद में बेहतर इलाज है जो निश्चित तौर पर आपको लाभ पहुंचाएगा और इसके लिए आप हमारे एक्सपर्ट्स से सलाह ले सकते हैं






शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये