डायबिटीज: लक्षण, कारण, उपचार, सावधानियां

05 मार्च 2019   |  डॉ मुकुल पांडेय   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

डायबिटीज: लक्षण, कारण, उपचार, सावधानियां - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

डायबिटीज यानि शुगर की बीमारी बहुत तेजी से बढ़ रही है। कई बार तो लोगों को इस बीमारी का तब पता चलता है, जब इससे शरीर के कुछ भागों आंखों, किडनी, और हार्ट को नुकसान हो जाता है। इस बीमारी का समय पर पता करना बहुत जरूरी है। डायबिटीज का किडनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है और किडनी का खराब होना जानलेवा हो सकता है।


मधुमेह बीमारी के कारण


मधुमेह एक ऐसी स्थिति है जो रक्त शर्करा को संसाधित करने की शरीर की क्षमता को बाधित करती है। सावधानीपूर्वक प्रबंधन के बिना मधुमेह रक्त में शर्करा का निर्माण कर सकता है, जिससे स्ट्रोक और हृदय रोग सहित खतरनाक जटिलताओं का खतरा बढ़ सकता है। मधुमेह के विभिन्न प्रकार हो सकते हैं और हालत का प्रबंधन उसके प्रकार पर निर्भर करता है। अधिक वजन वाले व्यक्ति या निष्क्रिय जीवन शैली का नेतृत्व करने वाले लोगों को मधुमेह की शिकायत अधिकतर पाई जाती है।


मधुमेह मुख्यत 3 प्रकार से विकसित हो सकते हैं-


· टाइप-1 मधुमेह – यह किशोर मधुमेह के रूप में भी जाना जाता है, यह प्रकार तब होता है जब शरीर इंसुलिन का उत्पादन करने में विफल रहता है। डायबिटीज वाले लोग इंसुलिन पर निर्भर होते हैं, जिसका मतलब है कि जीवित रहने के लिए उन्हें रोजाना कृत्रिम इंसुलिन लेना चाहिए।


· टाइप 2 मधुमेह - डायबिटीज शरीर को इंसुलिन के उपयोग के तरीके को प्रभावित करता है। जबकि शरीर अभी भी इंसुलिन बनाता है, प्रथम प्रकार के विपरीत शरीर में कोशिकाएं उतनी प्रभावी रूप से प्रतिक्रिया नहीं देती हैं जितनी कि उन्होंने प्रथम बार में की थी। यह नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज के अनुसार मधुमेह का सबसे आम प्रकार है, और इसका मोटापे के साथ मजबूत संबंध हैं।


· गर्भावधि मधुमेह: यह प्रकार गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में होता है जब शरीर इंसुलिन के प्रति कम संवेदनशील हो सकता है। गर्भकालीन मधुमेह सभी महिलाओं में नहीं होता है और आमतौर पर जन्म देने के बाद होता है।


मधुमेह के लक्षण


डायबिटीज बीमारी के यह लक्षण अगर दिखे तो तुरंत सर्तक हो जाए। मधुमेह से संबधित लक्षण निम्न है-


· बार-बार पेशाब का लगना- शरीर में जब कभी ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है तो बार-बार पेशाब आने लगता है। शरीर में इकट्ठा हुआ शुगर पेशाब के जरिए शरीर से बाहर आने लगता है।


· थकावट महसूस करना – अगर आप पूरा दिन खाली बैठे रहते है और थोड़ा सा काम करने पर थकावट महसूस होती है तब भी आप एक बार शुगर टेस्ट करवा लें।


· शरीर के घाव जल्दी नहीं भरना - जब कभी शरीर के किसी भी भाग पर कोई जख्म बन जाता है और जल्दी ठीक नहीं हो पाता तो आपका शुगर लेवल बढ़ा हो सकता है।


· नजर कमजोर होना - डायबिटीज का आंखों पर बहुत जल्दी बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे आपको दिखना कम हो सकता है। शुगर के कारण आंखों के पर्दो को नुकसान होता है। शुगर के कारण खत्म हुई नजर दोबारा ठीक नहीं होती है।


· बार-बार भूख लगना- शरीर में शुगर लेवल बढ़ने पर बार-बार भूख लगने लगती है अगर आप पहले से ज्यादा खाना खा रहे हैं और फिर भी पेट भरा नहीं लगता तो आप शुगरग्रसित हो सकते हैं।


· वजन का कम होना - भूख में बढौतरी होने पर खाना खाने के साथ वजन भी बढ़ना चाहिए लेकिन शुगर लेवल बढ़ने पर लोग खाना भी बहुत खाते हैं और वजन भी कम रहता है तो आपको शुगर की समस्या हो सकती है।


· स्किन प्रॉबल्म - शुगर लेवल बढ़ने पर स्किन से जुड़ी समस्याएं सामने आने लगती है। चेहरे पर मुहांसे और कालेधब्बे बहुत तेजी से बढ़ने लगते हैं।


· मसूड़ो से खून बहना - दांतों की सफाई करते समय मसूड़ो से खून निकलना या फिर मसूड़ों में सूजन रहने का कारण भी डायबिटीज कारण हो सकता है।


· बार-बार मुंह सूखना - मधुमेह होने पर बहुत ज्यादा और जल्दी-जल्दी से प्यास लगती है। बार-बार मुंह सूखने लगता है या फिर मुंह में नमी की कमी आने लगती है।


मधुमेह रोगियों को ध्यान देने योग्य बातें


शुगर के मरीजों को अपने भोजन दिनचर्या, शारीरिक गतिविधियों में परिवर्तन करनें पर इस बीमारी पर नियंत्रण पाया जा सकता है।


· परामर्श में मीटर और स्ट्रिप्स लें, ताकि प्राथमिक देखभाल चिकित्सक या विशेषज्ञ उनकी प्रभावशीलता की जांच कर सकें।


· सुनिश्चित करें कि टेस्ट स्ट्रिप्स या मीटर को छूने से पहले दोनों हाथ साफ और सूखे हों


· एक बार से अधिक परीक्षण पट्टी का उपयोग न करें और परिणाम बदलने के किसी भी बाहरी नमी से बचने के लिए उन्हें अपने मूल कनस्तर में रखें।


· परीक्षण के बाद कनस्तरों को बंद रखें। हमेशा समाप्ति तिथि की जांच करें।


· पुराने मीटर को उपयोग करने से पहले कोडिंग की आवश्यकता हो सकती है। यह देखने के लिए जांचें कि वर्तमान में उपयोग की जाने वाली मशीन को इसकी आवश्यकता है या नहीं।


· मीटर और स्ट्रिप्स को सूखे, ठंडे क्षेत्र में स्टोर करें।


निम्नलिखित सावधानियां बरतें:


· उस क्षेत्र को साफ करें जहां से नमूना साबुन, गर्म पानी के साथ आएगा ताकि खाद्य अवशेषों को उपकरण में प्रवेश करने और रीडिंग को विकृत न किया जा सके।


· अधिकतम आराम के लिए एक छोटा, पतला लेंसेट चुनें।


· लैंसेट में गहराई सेटिंग्स होनी चाहिए जो चुभन की गहराई को नियंत्रित करती हैं। आराम के लिए इसे समायोजित करें।


· कई मीटर के लिए रक्त के एक बूंद के नमूने की आवश्यकता होती है।


· उंगली के किनारे से रक्त लें, क्योंकि इससे दर्द कम होता है। मध्यमा, अनामिका और छोटी उंगली का उपयोग करना अधिक आरामदायक हो सकता है



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये