Lung Cancer: Symptoms, Causes, Treatment, Prevention (फेफड़ो का कैंसर: लक्षण,कारण,उपचार,बचाव)

08 मार्च 2019   |  डॉ मुकुल पांडेय   (23 बार पढ़ा जा चुका है)

Lung Cancer: Symptoms, Causes, Treatment, Prevention (फेफड़ो का कैंसर: लक्षण,कारण,उपचार,बचाव) - शब्द स्वास्थ्य(health.shabd.in)

फेफड़ों का काम हवा से ऑक्‍सीजन अलग कर रक्त में पहुंचाना है। लेकिन कई बार फेफड़ों में संक्रमण हो जाता है और ये ठीक से काम नहीं करते और कई बार यह संक्रमण के कारण कैंसर का रूप ले लेती है। फेफड़ों के कैंसर में कोशिकाओं की असामान्य वृद्धि होती है। और रोगी को सांस लेने में काफी तकलीफ होती है। एक अध्ययन के मुताबिक यह पता चला है कि फेफड़े के कैंसर से पीड़ित आधे से ज्यादा लोगों की मौत 6 महीनें के भीतर हो जाती है.

फेफड़ों के कैंसर का कारण

फेफड़ों का कैंसर की शुरुआत फेफड़ो में फैलने से होती है और बाद में शरीर के अन्य अंगों में फैलता है। यह फेफड़ों के वायुमार्गों में शुरू होता है, जिन्हें अलवेली और ब्रोंचीओल्स कहा जाता है। ज्यादातर मामलों में फेफड़ों का कैंसर अधिक धूम्रपान करने से होता है। जो लोग धूम्रपान नहीं करते हैं अज्ञानतावश वे भी इस बीमारी के चपेट में आ रहे है। फेफड़ो के कैंसर के मुख्य कारण निम्न है-

· तम्बाकू धूम्रपान - तम्बाकू का उपयोग फेफड़ो के लिए हानिकारक है। सिगरेट और बीड़ी धूम्रपान फेफड़ों के कैंसर के लिये प्रमुख कारक है।धूम्रपान से होंठ, मुँह, ग्रासनली, पाचन, श्वसन और छाती के अन्दरूनी अंगो के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। तम्बाकू में उपस्थित जहरीले रसायनों की वजह से फेफड़ों की कोशिकाओं को नुकसान पहुँचता है और वे असामान्य रूप से विकसित हो जाती हैं।




· निष्क्रिय धूम्रपान - यदि कोई व्यक्ति स्वयं धूम्रपान नही करता, फिर भी किसी अन्य व्यक्ति के धूम्रपान के कारण उसे फेफड़ों के कैंसर होने का खतरा बना रहता है। जिसे निष्क्रिय ‘धूम्रपान‘ या ‘पर्यावरणीय धूम्रपान‘ कहा जाता है। इसके कारण घर के पर्दे, कपडे, कालीन, भोजन, फर्नीचर और अन्य इस्तेमाल सामग्री में धुआँ लगने से जहरीले रसायन कण चिपक जाते है जो निष्क्रिय धूम्रपान के लिये जिम्मेदार होते है।

· अभ्रक- अभ्रक को मानव कैंसरजन के रूप में वर्गीकृत किया गया है। अभ्रक अपने बेहद टिकाऊ और आग प्रतिरोधी शक्ति के कारण जाना जाता है। अभ्रक के तंतु प्रकृति में सूक्ष्म होते है और जब सांस द्वारा अंदर जाते है तो फेफड़ों में जलन पैदा कर सकते है।

· रेडान- रेडान के संपर्क में आने से फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ने की संभावना होती है। रेडान, अदृश्य व गंधहीन गैस होती है जो यूरोनियम टूटने से निकलती है तथा हवा के साथ मिलकर सांस द्वारा अंदर जाती है।

· वंशानुगत और पारिवारिक इतिहास – अगर परिवार में किसी को फेफड़ों का कैंसर है तो इसकी संभावना दूसरे लोगों में बढ़ जाती है।

· घर के अंदर कोयला जलाना- घर के अंदर खाना पकाने के लिये कोयले का इस्तेमाल करने से फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

फेफड़ों के कैंसर का लक्षण

लंग कैंसर के कुछ लक्षण निम्नलिखित है जिससे कि आप इस बीमारी का पता लगा सकते है-

· कई महीनों से लगातर खांसी का आना।

· सांस लेने में तकलीफ होना

· कफ़ के साथ खून का आना।

· मुंह में घरघराहट का आना।

· अधिक लंबी सांस लेने में दिक्‍कत होना।

· सीने में लगातार दर्द का आना।

· निमोनिया के साथ बुखार और खांसी के साथ कफ आना।

· कुछ खाने में दिक्कत महसूस होना।

· लगातर वजन कम होना।

फेफड़ो के कैंसर का उपचार

अगर सही समय पर फेफड़ो का उपचार शुरु कर दिया जाए तो इस गंभीर बीमारी से रोगी ठीक हो सकता है। फेफड़ो के कैंसर के उपचार में कीमोथेरेपी का उपयोग किया जाता है। कीमोथेरेपी का मुख्य उद्देश्य कैंसर की कोशिकाओं को मारना है। ज्यादातर मामलों में फेफड़ो के कैंसर को खत्म करने के लिए डॉक्टर ऑपरेशन का सुझाव देते है जिसमें निम्न प्रकिया अपनाई जाती है-

सेगमेंटल शोधन – इसमें ऑपरेशन करके फेफड़ों का एक बड़ा हिस्सा हटा दिया जाता है।

लोबेटोमी- फेफड़ों का एक पूरा लोब हटा दिया जाता है।

न्यूमोनक्टोमी- इस प्रकिया में पूरे फेफड़े को हटा दिया जाता है।

कीमोथेरपी के जरिए भी फेफड़ो के कैंसर का इलाज होता है जहां पर रेडिएशन चिकित्सा के द्वारा कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए प्रोटॉन और एक्स-रे से प्राप्त ऊर्जा बीम को नियोजित किया जाता है.


फेफड़ो के कैंसर से बचाव

1. धूम्रपान न करना: फेफड़ों के कैंसर को रोकने का सबसे सही तरीका है कि धूम्रपान को बंद किया जाए। जो व्यक्ति अपने जीवन कभी धूम्रपान नहीं करता है उसको फेफड़ों के कैंसर का सबसे कम जोखिम होता है। धूम्रपान के हानिकारक प्रभावों के बारे में अपने परिवार से बात करें ताकि वे किसी के दबाव में आकर धूम्रपान शुरू न करें।

2. धूम्रपान: जितने भी लम्बे समय से आप धूम्रपान कर रहे हो धूम्रपान छोड़ना आवश्यक है। यदि 50 वर्ष की उम्र से पहले आप धूम्रपान छोड़ देते है तो अगले 10-15 साल में फेफड़ों के कैंसर का खतरा आधा हो सकता है।

3. अगर आपके सामने कोई धूम्रपान करता उसे ऐसा नहीं करने और धूम्रपान छोड़ने के लिए कहें। रेस्तरां, सार्वजनिक स्थानों इत्यादि में धूम्रपान क्षेत्रों से बचे।

4. यदि आप एक ऐसे क्षेत्र में रह रहे है जहाँ रेडान एक समस्या है तो अपने घर में रेडोन के स्तर की जाँच करायें और इस खतरे को कम करने के लिये कदम उठाएँ।



Nasrin
08 मार्च 2019

hmare relation m kisi Ko y bimari thi unki death hogyi thi or ab unki wife Ko b yhi problem hori h unki halat bhut khrab h kya y thk nhi hoskti plss dr sahab btaye

शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें
22 फरवरी 2019
पुराने समय में जब लोग फिजिकल एक्टिविटी काफी अधिक करते थे, तो उन्हें खुद को तंदरूस्त रखने के लिए अलग से समय निकालने या एक्सरसाइज करने की जरूरत नहीं पड़ती थी। लेकिन आज के समय में जब अधिकतर काम उंगलियों पर ही होने लगा है तो अपनी फिटनेस को बरकरार रखने के लिए व्यायाम करना जरूरी हो गया है। इस लिहाज से रनिं
22 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
कैंसर का नाम सुनते ही मन में एक डर समा जाता है। अमूमन लोगों का मानना है कि कैंसर होने के बाद व्यक्ति का बचना काफी मुश्किल होता है। लेकिन सच्चाई इससे अलग है। कैंसर यकीनन घातक है, लेकिन व्यक्ति अपनी जान से तभी हाथ धोता है, जब वह इसके लक्षणों को नजरअंदाज करता है। स्थिति बिगड़ने पर जब व्यक्ति को असलियत क
24 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
अक्सर ऐसा होता है, जब आप बेहद जल्दी कुछ गरमागरम खा-पी लेते हैं तो जीभ जल जाती है। ऐसे में व्यक्ति को तकलीफ तो काफी होती है, लेकिन समझ में नहीं आता कि क्या किया जाए। जीभ में जलन होने पर वहां पर दवाई लगाना संभव नहीं होता। ऐसे में काम आते हैं कुछ घरेलू उपाय। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ बेहद आसान उपायों
24 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
कुछ लोगों की दूसरों और ज़रूरतमंदों के प्रति निःस्वार्थ भावना हमें चकित कर देती है. 14 फ़रवरी को कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गयी. लोग शहीदों के परिवारों की मदद के लिए आगे आने लगे. इसी कड़ी में राजस्थान के अजमेर से एक मिसाल पेश क
25 फरवरी 2019
26 फरवरी 2019
हम सभी ने बचपन में यह सुना है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए। सुबह जल्दी उठने वाला व्यक्ति न सिर्फ स्वस्थ रहता है, बल्कि उसे कभी भी समय की कमी का रोना नहीं रोना पड़ता। ऐसे बहुत से लोग होते हैं, जो सुबह जल्दी उठना तो चाहते हैं लेकिन फिर भी ऐसा नहीं कर पाते। अगर आपका नाम भी ऐसे ही लोगों की लिस्ट मंे शुमार है
26 फरवरी 2019
27 फरवरी 2019
एक कहावत “Health is Wealth” अर्थात स्वास्थ्य ही धन है। हर व्यक्ति चाहता है कि वो अपने पूरे जीवन में स्वस्थ्य रहना चाहता है ताकि उसे अपने काम के लिए कभी किसी का सहारा न लेना पड़े। हर कोई ये मानता है कि जीवन में स्वास्थ्य ही सबसे बड़ा धन होता है जो कि हमेशा हमारे साथ रहता है और हर मुश्किल में हमारी सहा
27 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
Benefit of Shimla Mirch वैसे तो हर हरी सब्जी स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। पर कुछ ऐसे हरी सब्जियां भी होती हैं जो लोगों को या बच्चों को कम पसंद होती हैं पर उसके फायदे चौकाने वाले होते हैं। ऐसे ही एक हरी सब्जी है शिमला मिर्च। शिमला मिर्च खाने में भले ही बहुत स्वादिष्ट
28 फरवरी 2019
02 मार्च 2019
प्रोटीन से पैक अंडे का सेवन बच्चों से लेकर बड़ों तक को करने की सलाह दी जाती है क्योंकि इसके सेवन से सेहत को कई तरह के लाभ मिलते हैं। लेकिन अगर आप सोचते का इसका प्रयोग केवल यहीं तक सीमित है तो आप गलत हैं। अंडे का इस्तेमाल स्किन समस्याओं को दूर करने और एक बेहतरीन ग्लोइंग स्किन पाने के लिए भी किया जा सक
02 मार्च 2019
03 मार्च 2019
घरेलू नुस्खे हिंदी में
03 मार्च 2019
04 मार्च 2019
Disprin टैबलेट और Disprin डायरेक्ट टैबलेट दोनों में एंटी-इंफ्लेमेटरी दर्द निवारक एस्पिरिन होता है। Disprin के उपयोग सिरदर्द, माइग्रेन, तंत्रिका दर्द (नसों का दर्द), दांत दर्द, गले में खराश, अवधि दर्द सहित हल्के से मध्यम दर्द से राहत।सर्दी और फ्लू से संबंधित दर्द, दर्द
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
पेरासिटामोल क्या है?पेरासिटामोल (एसिटामिनोफेन) एक दर्द निवारक और बुखार निवारक है। की क्रिया का सटीक तंत्र ज्ञात नहीं है।पेरासिटामोल का उपयोग सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, गठिया, पीठ दर्द, दांत दर्द, जुकाम और बुखार जैसी कई स्थितियों के
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
पुदीन हरा सबसे पुराना और सबसे असरदार एक ओषधि है जिसमे पुदीना सत्वा है जो पेट दर्द, गॅस,बदहज़मी से जल्द राहत देता है। ये पेट के लिए एक लोकप्रिय दवा है जो बहुत ही तेजी से काम करता है। पुदीन हरा को प्राकृतिक एवं हर्बल और सुरक्षित माना जाता है। ये बाज़ार में टबलेट और लिक्विड के रूप में किसी भी मैडिसिन स्
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
पुदीन हरा सबसे पुराना और सबसे असरदार एक ओषधि है जिसमे पुदीना सत्वा है जो पेट दर्द, गॅस,बदहज़मी से जल्द राहत देता है। ये पेट के लिए एक लोकप्रिय दवा है जो बहुत ही तेजी से काम करता है। पुदीन हरा को प्राकृतिक एवं हर्बल और सुरक्षित माना जाता है। ये बाज़ार में टबलेट और लिक्व
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
D Cold Total Tablet का प्रयोग सामान्य सर्दी के लक्षणों के उपचार में किया जाता है।D Cold Total Tablet का उपयोग कैसे करें ?इस दवा को खुराक और अवधि में अपने चिकित्सक द्वारा सलाह के अनुसार लें। इसे पूरी तरह से निगल लें। इसे चबाएं, कुचलें या तोड़ें नहीं। D Cold Total Tabl
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
आजकल बदली हुई लाइफस्टाइल और भागदौड़ भरी जिंदगी हमें कुछ और दे पा रही हो या नहीं पर कई बीमारियां जरुर दिए जा रही है. उन्हीं में से एक बेहद खतरनाक बीमारी है- उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure). जिसे हम (Hypertension) भी कहते हैं. इस बीमारी को silent killer भी कहा जाता है क्योंकि अधिकतर लोगों को प
04 मार्च 2019
04 मार्च 2019
लिपोमाक्या आपने अपनी त्वचा के नीचे एक नरम रबरदार उभार देखा है? अगर हां तो यह लिपोमा का लक्षण हो सकता है। लिपोमा अक्सर तब होते जब आपके शरीर के नरम ऊतकों में वसा की एक गांठ बढ़ने लगती है, हालांकि उन्हें ट्यूमर के रूप में वर्गीकृत नहीं किया गया है, लेकिन वे आमतौर पर नुकस
04 मार्च 2019
05 मार्च 2019
विटामिन सी युक्त नींबू देखने में भले ही छोटा सा हो लेकिन यह बड़े-बड़े काम करने का माद्दा रखता है। जहां एक ओर यह कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करता है तो वहीं दूसरी ओर इसकी मदद से घर की कई छोटी-बड़ी परेशानियों को दूर किया जा सकता है। इतना ही नहीं, यह आपके सौंदर्य का भी उतनी ही बेहतरीन तरीके से ख्य
05 मार्च 2019
05 मार्च 2019
जेनेरिक नाम: मेट्रोनिडाजोलउत्पाद का नाम: MetrogylMetrogyl का उपयोग Metrogyl का उपयोग शरीर के विभिन्न हिस्सों में बैक्टीरिया और अन्य जीवों के कारण होने वाले कुछ संक्रमणों के इलाज के लिए किया जाता है। इसके साथ ही इसका उपयोग सर्जरी के दौरान होने वाले कुछ संक्रमणों को रोकने या इलाज के लिए भी किया जा सकत
05 मार्च 2019
05 मार्च 2019
Avil Tablet का उपयोग एविल टैबलेट्स में फेनिरामाइन माल्ट होता है, जिसका उपयोग एलर्जी की स्थिति जैसे कि हाइफ़िवर, नाक का बहना, त्वचा में खुजली और त्वचा पर चकत्ते के इलाज के लिए किया जाता है। साथ ही इसका उपयोग आंतरिक कान के विकारों (जैसे मेनियर की बीमारी) और यात्रा की बीमारी की रोकथाम और उपचार में भी
05 मार्च 2019
05 मार्च 2019
Flexon Tablet (फ्लेक्सॉन टैबलेट) बुखार, दांतों में दर्द, सिरदर्द, सर्दी, पीठ दर्द, कान का दर्द, शरीर में दर्द, दांत दर्द, मांसपेशियों का दर्द, दर्दनाशक और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए निर्देशित किया जाता है।Flexon Tablet (फ्लेक्सॉन टैबलेट) इस दवा गाइड में सूचीबद्ध नहीं किए गए उद्देश्यों के लिए भी
05 मार्च 2019

हमारे 500 से अधिक डॉक्टरों से फोन पर सलाह लीजिये

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x