खांसी से जल्दी छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये 10 घरेलू आसान उपाय

27 जून 2019   |  डॉ.स्नेहा दुबे   (12 बार पढ़ा जा चुका है)

पॉलिटिशियन्स में जब केजरीवाल की मिमिक्री होती है तो आर्टिस्ट को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती क्योंकि उन्हें मफलर लगाकर सिर्फ खांसना होता है। खांसी का कनेक्शन हमेशा केजरीवाल से जोड़कर देखा जाता है ऐसा इसलिए क्योंकि वे अपने भाषणों में अक्सर खांसते रहते हैं। असल में खांसी जब होती है तो व्यक्ति परेशान हो जाता है। खांसी दो प्रकार की होती है एक गीली यानी बलगम वाली खांसी तो दूसरी सूखी खांसी और इन दोनों में व्यक्ति को बहुत पेरशानी का सामना करना पड़ता है। इस दौरान सिर, आंख, नाक, गला और फेफड़े सभी प्रभावित हो जाते हैं। khansi ka gharelu ilaj बहुत फायदेमंद होता है और इसके कारण आपका डॉक्टर का खर्च भी बच जाता है।


खांसी

खांसी आने के कारण ?


तेज से आने वाली खांसी में ज्यादा संक्रमण होता है जो ऊपरी श्वसन नली और गले को प्रभावित करता है जैसे फ्लू, सामान्य जुकाम और लेरिंजाइटिस कहते हैं। वैसे खांसी आने के कुछ ऐसे कारण होते हैं-

1. खसरा, निमोनिया, ब्रोकाइटिस और आंत्रिक ज्वर के कारण खांसी होने लगती है।

2. चिलगोजे, अखरोट, बादाम, मूंगफली और पिस्ता जैसी चीजें खाने के बाद पानी पीने से खांसी आती है।

3. ठंडे मौसम में ठंडी चीजें खाने या पीने से भी खांसी आती है।

4. घी तेल से बने खाद्य पदार्थों के सेवन के तुरंत बाद पानी पीने से भी खांसी होने लगती है।

5. सर्दी के मौसम में नंगे पांव घूमने, बारिश में भीग जाने से, ज्यादा समय तक पानी में पीने से और गीले कपड़ों को पहनने से भी खांसी आती है।

6. धूम्रपान करने से या फिर एल्कॉल्हिक पदार्थों के सेवन से भी खांसी आती है जिससे फेफड़े प्रभावित होते हैं।


खांसी से बचने के देसी उपाय


बदलता मौसम व्यक्ति के शरीर पर अटैक करता है और सबसे पहले शुरुआत खांसी से ही होती है। सूखी खांसी जहां गले दर्द का कारण बनती है वहीं कफ वाली खांसी सांस लेने में परेशानी शुरु कर देती है। कफ सीरफ लेना भले ही असरदार इलाज हो सकता है लेकिन अगर आप किसी भी तरह की खांसी के लिए आयुर्वेदिक उपचार करते हैं तो आपको और भी तेजी से फायदा होगा और वो भी बिना साइड-इफैक्ट्स के, तो जानिए खांसी के देसी उपचार-

1. अदरक के टुकडो़ं को शहद के साथ मिलाकर चबाएं और इसके अलावा आप अदरक का जूस बनाकर शहद के साथ भी पी सकते हैं।

2. रात को सोने से पहले एक चम्मच शहद पिएं जिससे एंटी-बैक्टीरियल तत्व खांसी से जल्दी राहत मिलती है. सिर्फ शहद को चाटने से ही खांसी दूर करने में मदद होती है।

3. हल्दी वाला दूध खांसी होने के दौरान एक गिलास तो जरूर पिएं। पानी में हल्दी, अजवाइन, काली मिर्च, दालचीनी और नमक एक साथ उबालकर हल्के गुनगुने पानी के साथ पिएं।

4. लहसुन की कलियों को कच्चा चबाएं या इसे पानी में उबालकर काढ़े के रूप में इस्तेमाल करें। दोनों ही तरीकों से ये फायदेमंद होता है और कड़वेपन को दूर करने के लिए इसमें शहद मिलाई जाती है।

5. तुलसी के पत्ते कई तरह की बीमारियों से फायदा दे सकते हैं। खांसी के साथ ही सर्दी-जुकाम की समस्या बनी होने के का रामबाण इलाज लहसुन, अदरक, काली मिर्च, अजवाइन और तुलसी की पत्तियों को एक साथ उबालकर इसका काढ़ा बनाएं। ये बहुत असरदार उपाय होता है।

6. नींबू के रस को सेहत से लेकर सुंदरता तक को बढाने में बहुत ही फायदेमंद माना जाता है। खांसी की समस्या से बहुत ज्यादा परेशान हैं तो नींबू के रस में हल्का सा शहद मिलाकर दिन में 3-4 बार पिएं।

7. सूखी खांसी हो या कफ वाली दोनों ही प्रकार की खांसी में नमक वाला पानी पिएं और इससे गरारा करें। इसकी गर्माहट मिलने से गले में होने वाली सभी परेशानियों को दूर करने में मदद मिलती है।


खांसी

8. रात को सोने से पहले या सुबह के नाश्ते के बाद गर्म दूध का सेवन करें। बलगम वाली खांसी को दूर करने का क्विक फॉर्मूला ये होता है लेकिन इसमें चीनी की मात्रा नहीं होनी चाहिए।

9. काली मिर्च खांसी में रामबाण माना जाता है और खांसी से छुटकारा पाने के लिए तो आपको ये करना ही चाहिए। इसे पीसकर घी के साथ हर दिन कम से कम 3-4 बार लें या फिर दूध के साथ भी ले सकते हैं।

10. खांसी होने के दौरान जितना हो सके प्याज खाएं। इसके साथ ही कच्चे प्याज को निचोड़कर इसका रस निकाल लें और प्याज के रस मे शहद मिलाकर पिएं इससे सूखी हो या गीली दोनों खांसियां खत्म हो जाती है।


खांसी रोकने के कुछ उपाय


खांसी हम सबको किसी भी समय आ सकती है और इसे झेलने के लिए हम दर्द सहते हैं लेकिन अगर आपने इसे नहीं रोका तो ये कई गुना ज्यादा बढ़ सकती है। अगर आपको रात में सोने के दौरान खांसी परेशान करने लगती है तो आपको इन उपायों को अपनाना चाहिए-

1. जब आपको रात में अचानक खांसी आ जाए तो तकिए की मदद से अपने शरीर के दूसरे भाग को ऊपर रखें। इससे खांसी में आकाम मिलता है क्योंकि खांसी आपके गले और श्वास नलियों में इरिटैंट्स यानि तकलीफ होने से होती है जो सिर के ऊपर करने से कम होती है।

2. पीठ के बल से ब्लड में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है जिसका असर फेफड़ों पर पड़ता है। आपको इस कारण गहरी सांस लेनी पड़ती है और खांसी की संभावन बढ़ जाती है। पेट के बल लेटने से खांसी में आराम मिलता है और जब खांसी कम हो जाए तो करवट ले लें।

3. जब नाक बंद होती है तो मुंह से सांस लिया जाता है और यहां से सांस लेना हाइपरवेंटिलेशन का संकेत देती है जिससे खांसी जरूर होती है। इसलिए सोने से पहले बंद नाक का इलाज करेंष इसके लिए आप एक जगह बैठ जाएं और फिर अपना मुंह बंद कर लें, नाक दबा लें और सांस रोकें। जब तक हो सके सांस रोके रहें इससे फायदा मिलता है।

4. कई बार ऐसा होता है कि रात में पेट के एसिड्स फूड पाइप और गले तक वापस आने लगते हैं और इसके कारण खांसी हो जाती है। जो लोग खाने के तुरंत बाद सोते हैं उन्हें ये समस्या जरूर होती है इसलिए आपको खान के बाद कम से कम आधा घंटा टहलना चाहिए।


निष्कर्ष- खांसी आना एक आम समस्या है लेकिन अगर ये बढ़ जाती है तो एक बड़ा संक्रमण रोग बन जाता है। ऐसे में आपको कई तरह के जतन करने के साथ ही डॉक्टर्स का भी खर्चा उठा सकते हैं। अगर आपको ऊपर बताए गए उपायों से थोड़ा भी फायदा नहीं मिलता है तो आपको हमारे एक्सपर्ट्स की राय लेनी चाहिए।

खांसी



असरदार घरेलु उपाय

शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको खांसी से जुड़ी समस्या है ?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये