बिना दवा खाए आयुर्वेदिक उपायों से कम करें कोलेस्ट्रोल

01 जुलाई 2019   |  डॉ.स्नेहा दुबे   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

आपने अनिल कपूर की फिल्म बधाई हो बधाई देखी है? इसमें अनिल कपूर का मोटापा इतना होता है कि दर्शकों की हंसी निकल जाती है। फिल्म में उनके दोस्त कहते रहते हैं कोलेस्ट्रोल कम कर लो लेकिन वे सुनते नहीं लेकिन जब प्यार होता है तो सबकुछ अपने आप ही कम हो जाता है। ये तो है जोक्स अपार्ट.....लेकिन कोलेस्ट्रोल का बढ़ना सच में एक गंभीर समस्या बन जाती है और cholesterol ka ilaj करना उतना ही मुश्किल हो जाता है। बहुत से लोग इसके लिए सर्जरी करवाते हैं, दवाईयों का सहारा लेते हैं लेकिन यहां मैं आपको आयुर्वेदिक उपायों से कोलेस्ट्रोल कम करने के बारे में विस्तार से बताऊंगी।


कोलेस्ट्रोल


कोलेस्ट्रोल का कारण


एक मोम जैसा चिकनाई युक्त पदार्थ कोलेस्ट्रोल कहलाता है, जिसका निर्माण लिवर में होता है और हमारे शरीर को सुचारू रूप से काम करने के लिए एक निश्चित मात्रा में कोलेस्ट्रोल की जरूरत होती है। विटामिन डी का निर्माण, पाचन रस का निर्माण और कई प्रकार के हार्मोंस के लिए कोलेस्ट्रोल बहुत जरूरी होता है ये एक गाढ़ा जमने वाला पदार्थ होने के कारण रक्त के माध्यम से हमारी कोशिकाओं तक पहुंचता है और अपना काम करके फिर वापस यकृत में चला जाता है। वैसे शरीर में कोलेस्ट्रोल बढ़ने का सबसे मुख्य कारण हमारी दिनचर्या और खानपान होता है, इसके अलावा ये कारण भी होते हैं-

1. अधिक वसायुक्त खाना लेना

2. बाहर का तला भुना भोजन नियमित रूप से खाना

3. रिफाइंड ऑयल या ऑयली चीजों का इस्तेमाल

4. चिकनाई वाली चीजों का सेवन

5. धूम्रपान करना

6. परिवार में जेनेटिक होना


कोलेस्ट्रोल के लक्षण


20 साल से ज्यादा के लोगों को अपने रक्त कोलेस्ट्रोल की जांच हर 5 सालों पर करवा लेनी चाहिए। कोलेस्ट्रोव स्तर को मापने के लिए लिपिप्रोटीन प्रोफाइल नाम का एक रक्च परीक्षण कराना सबसे सही जांच होती है। इन लक्षणों से आप पहचान सकते हैं cholesterol ke lakshan-

1. बिना वजह थकान महसूस होना

2. उच्च रक्तचाप

3. पैरों में दर्द होना

4.मोटापा हद से ज्यादा बढ़ते रहना

5. दिल में हर समय बेचैनी रहना

6. हर समय पसीना आना

7. सीने में दर्द रहना

8. सांस लेने में तकलीफ होना

9. कमजोरी होना

10. पेट के अलावा हर जगह की चर्बी निकलना


कोलेस्ट्रोल पर क्या खाएं और क्या ना खाएं


1. मौसमी फल और सब्जियों को शामिल करें।

2. संतरे का जूस नियमित रूप से पिएं।

3. ताजा फल, सब्जियां और फाइबरयुक्त पदार्थों का सेवन करें।

4. सुबह के नाश्ते में कॉर्नफ्लैक्स लें।

5. छाछ का सेवन भी हर दिन करें।

6. रेड मीट का सेवन ना करें।

7. दूध, घी, बटर, क्रीम से बनी किसी चीज का सेवन बंद कर दीजिए।

8. मावा से बनी मिठाइयां भी आपके लिए घातक हैं।

9. सिगरेट-शराब से दूर रहें।

10. बाहर का खाना नजरअंदाज करें।


कोलेस्ट्रोल


कोलेस्ट्रोल कम करने का आयुर्वेदिक उपचार


कोलेस्ट्रोल को दवाईयों से कम करने पर साइड इफैक्ट्स होने का खतरा होता है। अगर यही आप कुछ घरेलू निस्खों और कुछ आयुर्वेदिक उपायों पर ध्यान दें तो आपकी बढ़े हुए कोलेस्ट्रोल की समस्या पूर्णरूप से कम हो सकती है। cholesterol kam karne ke ilaj

1. मेथी में फाइबर की ज्यादा मात्रा होने के कारण हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होती है। मेथी बीज का सेवन करने से रक्त ट्राइग्लिसराइड्स और कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है।

2. जई यानी ओट्स में घुलनशील फाइबर की मात्रा उपलब्ध होती है जो कि प्लाक गठन को रोकती है। अगर आप शरीर में बढ़े हुए कोलेस्ट्रोल को कम करना चाहते हैं तो नियमित रूप से ओट्स खा सकते हैं।

3. लहसुन में एक जैव सक्रिय घटक होता है जिसे एलिसिन कहते हैं। यह रकत लिपिड को कम करने में मदद करता है और प्लेक के गठन को रोकता है। हर दिन सुबह एक लॉन्ग के साथ लहसुन का प्रयोग आपके कोलेस्ट्रोल के घटक को रोकता है।

4. नींबू के रस में विटामिन सी पाया जाता है और गुनगुने पानी में नींबू और शहद का सेवन बढ़े हुए कोलेस्ट्रोल को कम कर देता हैष नियमित रूप से आप इसे सुबह खाली पेट ले सकते हैं।

5. हरी चाय को एक ऐसा उत्पाद माना है कि लगभग हर किसी के घर में ये पाया जाता है। यह पाचन की सहायता के लिए एक प्राकृतिक दवा होती है जो दिल और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार लाता है। शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

6. धनिया के बीजों का प्रयोग आपके शरीर में बढ़ हुए कोलेस्ट्रोव रो कम कर देता है। धनिया के बीजों का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका है कि एक गिलास पानी में दो चम्मच धनिया के बीज उबालवकर ठंडा कर लें। ठंडा होने के बाद इस काढ़े को दिन में दो बार पिएं।

7. आंवले का प्रयोग आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जाता है। विटामिन सी की अच्छी मात्रा होने के साथ आंवला में एंटीऑक्सीडेंट और खनिज पदार्थों का भंडार होता है। कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि भारतीय आंवला भोजन से कोलेस्ट्रोल को कम करती है और एंजाइम एचएमजी कोआ रेडर्टेज की क्रिया को रोकता है जो कोलेस्ट्रोल को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

8. अलसी के बीजों में अल्फा-लिनोलेनिक एसिड बहुत अच्छी मात्रा में उपस्थित होते हैं। इस पौधे से ओमेगा-3 वसा होता है जो एलडीएल और ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करने में मदद करता है।

9. नियमित रूप से ग्रीन टी पीने से कोलेस्ट्रोल कम हो जाता है क्योंकि इसमें वसा को काटने की क्षमता पाई जाती है।

10. हाई कोलेस्ट्रोल होने पर लाल प्याज के रस को नियमित रूप से पिएं। एक चम्मच प्याज के रस में एक चम्मच शहद मलाकर प्रतिदिन सुबह सेवन करें।


निष्कर्ष- कोलेस्ट्रोल बढ़ने से ही मोटापा बढ़ता है और मोटापा आज के समय में एक अभिशाप बन गया है। कोलेस्ट्रोल का इलाज जिन लोगों ने एलोपैथिक दवाईयों से करवाया है उन लोगों को समस्याएं आती ही हैं। इसलिए कोलेस्ट्रोल कम करने का आयुर्वेदिक इलाज सही माना जाता है क्योंकि ये शरीर को किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाता। अगर आपको फिर भी कोई समस्या है तो आपको हमारे एक्सपर्ट्स से बात करनी चाहिए।

कोलेस्ट्रोल



ऐसे ही अच्छी जानकारियां देती रहे

शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आप कोलेस्ट्रोल बढ़ने से परेशान हैं ?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये