प्रेग्नेंसी में कैल्शियम बढ़ाने के आहार - Calcium foods for Pregnancy in Hindi

15 मई 2019   |  शब्दनगरी संगठन   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

Calcium foods for Pregnancy in Hindi- महिलाओं के जीवन में गर्भावस्था बहुत कठिन पड़ाव होता है और इस दौरान अगर इसे सही तरह से पार कर लिया तो जीवन की हर जंग महिलाएं जीत सकती हैं. ये दौर महिलाओं के लिए नाजुक भी माना जाता है और सबसे ताकतवर भी क्योंकि वो अपने अंदर से एक और जान को जन्म देकर खुद को भी जीवनदान देती है और ऐसे में उसका साथ सिर्फ ईश्वर देते हैं इसके अलावा भी घरवालों को प्रेग्नेंट महिला का ख्याल रखना चाहिए. प्रेग्नेंसी में महिलाओं को अपने खाने का खास ख्याल रखना चाहिए जिससे उन्हें आयरन, कैल्शियम या ऐसी किसी चीज की कमी नहीं हो जिससे उन्हें या बच्चे को कोई नुकसान हो.




कैसा हो महिला का आहार ? Which type foor items in pregnancy


प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के आहार में बहुत चीजों का मतभेद होता है क्योंकि इस दौरान कुछ लोगों का कहना होता है कि गर्भवती महिलाओं को ये खाना चाहिए तो कुछ लोग उसका ऑब्जेक्सन करते हैं. आपके आहार की तरह ढेर सारे फल और सब्जियां शामिल हों जिससे शरीर में जरूरी विटामिन्स की कमी पूरी हो जाए. ब्रेड, अनाजों, चावल और आलू ज्यादा से ज्यादा खाना चाहिए. दूध और दूसरे उत्पादन लेने से भी कई फायदे होते हैं, बस आपको ज्यादा से ज्यादा साबुत अनाज खाना चाहिए जिससे आप और आपके बच्चे को जरूर पोषक तत्व मिलता रहे. सही खाना गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत जरूरी होता है क्योंकि ये खाद्य पदार्थ सिर्फ उनके लिए नहीं बल्कि होने वाले बच्चे के लिए भी उतना ही जरूरी होता है.


प्रेग्नेंसी में कैल्शियम कैसे बढ़ाएं ? How to increase calcium in pregnancy


गर्भावस्था के दौरान अपने खाने का खास ध्यान रखना चाहिए इसलिए हमशा कैल्शियम से भरपूर पदार्थों का सेवन करना चाहिए. ऐसा करने से गर्भ में पल रहा बच्चा और मां दोनों जल्दी हेल्दी रहते हैं. कैल्शियम से भरपूर से चीजों को खाने से हड्डियां मजबूत रहेंगी और डिलीवरी के समय महिलाओं को ज्यादा समस्या नहीं होगी, क्योंकि ऐसा कहा जाता है कि उस दौरान महिलाओं को इतना पेन होता है मानो एक साथ सभी हड्डियां टूट गई हों. इसलिए गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम युक्त चीजों को खाने के लिए कहा जाता है. इन चीजों से आप कैल्शियम आराम से बढ़ा सकती हैं.

सूखे अंजीर- एक कप सूखे अंजीर में 241 एमजी कैल्शियम पाया जाता है और इसके अलावा सूखे अंजीर में उच्च मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है जो प्रेग्नेंसी महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है.

खजूर- खजूर का सेवन लेबर पेन के दौरान बहुत राहत प्रदान करता है क्योंकि इसमें उच्च मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है. एक खजूर में 15.36 एमजी कैल्शियम होता है जो शरीर को कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है और प्रेग्नेंसी के कारण होने वाली समस्याओं को भी कम करता है.

सूखे खुबानी- सूखे खुबानी में कैल्शियम उच्च मात्रा में होता है और कैल्शियम के साथ ही खुबानी में आयरन फॉलिक एसिड और पोटेशियम होता है जो शरीर में पर्याप्त पोषण देता है. इसके साथ ही गर्भ में पल रहे बच्चे का भी सही विकास करता है और गर्भवती महिलाओं के लिए कैल्शियम का सेवन भी हेल्दी होता है.

कीवी- कीवी एक सुपरफूड होता है और इसका सेवन प्रेग्नेंसी के दौरान लाभकारी होता है. इसमें उच्च मात्रा में कैल्शियम और विटामिन्स-सी भी पर्याप्त मात्रा में होता है. ये पोषक तत्व शरीर को कई लाभ देकर हेल्दी रखता है.

सब्जियां- गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम की मात्रा बढ़ाने के लिए सेम, शलजम, हरी पत्तेदार सब्जियां, पत्तागोभी, फूलगोभी जैसी चीजों को शामिल करें. मगर ध्यान रहे कि सब्जियों को अच्छे से धुल लें क्योंकि ऐसा करने से आप अपने बच्चे को संक्रमण से बचाकर खुद हेल्दी फूड लेंगी.

तरल पदार्थ- प्रेग्नेंसी के दौरान आपको तरल पदार्थों का ज्यादा सेवन करना चाहिए क्योंकि इस दौरान शरीर में पानी और खून दोनों की मात्रा बराबर होनी चाहिए. आपको दिन में कम से कम 7-8 गिलास पानी पीना चाहिए और अगर गर्मी का मौसम है तो जल की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए. पानी के अलावा फलों का रस, सब्जियों का सूप, शर्बत, छाछ जैसे तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए.

संतुलित भोजन- गर्भधारण से पहले संतुलित भोजन लेना प्रारंभ कर देना चाहिए, जिससे शरीर को गर्भावस्था के लिए पहले से ही तैयार कर दिया जा सके. इससे ज्यादा जरूरी है कि पूरे 9 महीनों तक संतुलित भोजन लेना शुरु कर देना चाहिए.

सूखे मेवे- गर्भवती महिलाओं को सूखे मेवे जरूर खाना चाहिए क्योंकि इस दौरान काजू, बादाम, पिस्ता, केसर, किशमिश, खजूर जैसे सूखे मेवे जरूर खाना चाहिए. इससे शरीर में एनर्जी रहती है और कैल्शियम की मात्रा भी बढ़ती है.


गर्भावस्था में मां रखे ये सावधानी- Caution during Pregnancy


1. गर्भावस्था के दौरान पानी पीने में सावधानी बरतनी चाहिए. हर दिन बोरिंग का पानी नहीं बल्कि मिनरल वॉटर पीना चाहिए. इसके अलावा मनपसंद जूस का आइस क्यूब जमा लीजिए और उसको आइसक्रीम की तरह खाइए.

2.अंडरवियर ब्रा भी गर्भावस्था के दौरान नहीं पहनना चाहिए. इस दौरान स्तन का आकार बढ़ जाता है और ऐसे में ब्रा पहनना सही नहीं माना जाता है. अगर फिर भी आपके लिए ये जरूरी है तो आपको स्पोर्ट्स वाली ब्रा ही पहननी चाहिए.

3. अगर आप चाहते हैं कि आपकी डिलीवरी में कोई परेशानी नहीं हो तो प्रसव की भी तैयारी करते रहना चाहिए. जब आप अपने 32वें हफ्ते में आएं तो रात में सोने से पहले अपने पेरनीअम (मूलाधार) पर बादाम का तेल लगाएं.

4. गर्भावस्था के दौरान विच हेजेल आपके लिए कई मायनों में फायदेमंद होता है. यह पूरी तरह से प्राकृतिक होता है जिससे मच्छरों के काटने या छोटे-मोटे कटने पर काफी असरदार होता है.

5. गर्भावस्था के दौरान एक्टिव रहना मुमकिन नहीं होता है लेकिन इस दौरान आपका एक्टिव रहना आपके बच्चे को हेल्दी बना सकता है. आखिर के कुछ हफ्तों में आपको सिर्फ टहले का ही मन करेगा और बिल्कुल भी लापरवाही नहीं करें.

6. स्तनपान को सहज बनने में बहुत महत्वपूर्ण होता है कि अपना खान-पान अच्छा रखें. प्रसव के बाद भी अपने आहार को वही करने की कोशिश करें जो पूरे गर्भावस्था के दौरान की थी. आपको प्रेग्नेंसी से लेकर प्रसव तक अपने खान-पान में एक खास तरीके की चीजों को शामिल करना चाहिए जिससे आपको फायदा मिल सके.

7. प्रेग्नेंसी के दौरान आपको भारी चीजों को उठाने से बचना चाहिए और खुद को हर स्थिति में ठीक रखने का प्रयास करना चाहिए क्योंकि इससे आपकी सेहत अच्छी रह सकती है और आपका बच्चा भी स्वस्थ रहेगा.



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये