पीरियड्स रोकने के अचूक उपाय -Period Rokne ke Upay

21 मई 2019   |  डॉ.स्नेहा दुबे   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

Period Rokne ke Upay- महिलाओं में पीरियड्स को लेकर बहुत सी बातें होती हैं और जब इन्हें इसमें कोई समस्या आती है तो किसी से शेयर करने में भी इन्हें कुछ शर्म सी आती है. 13 से 14 साल की उम्र में इनके शरीर में कुछ बदलाव आते हैं और पीरियड्स उन्हीं में से एक होता है. पीरियड्स के 3-7 दिनों तक चलता है और फिर जब ये चला जाता है तो 21 से 35 दिनों में वापस भी आ जाता है. मगर कभी-कभी ज्यादा ब्लीडिंग होने लगती है और फिर महिलाएं इनसे बचने के उपाय गूगल पर या किसी एक्सपर्ट्स से पूछती हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि कुछ लोगों को पीरियड्स के दौरान बहुत ज्यादा दर्द होता है.


Period Rokne ke Upay


क्या होते हैं पीरियड्स ? What is Periods ?


वैसे तो पीरियड्स का मतलब समय चक्र होता है लेकिन महिलाओं के लिए इसका मतलब माहवारी यानी मासिक धर्म होता है. ये हर 21 से 35 दिनों में 3 से 7 दिनों तक रहता है और ये हर महिलाओं को होना जरूरी होता है क्योंकि यही प्रक्रिया आगे चलकर उनकी प्रेग्नेंसी में सहायक होती है. मासिक धर्म प्रेग्नेंसी के दौरान रुक जाता है और उसके बाद फिर शुरु होता है जो महिलाओं के उनकी उम्र के 13 या 14 सालों से लेकर 50 से 55 साल तक बना रहता है. पीरियड्स होना हर महिलाओं के लिए जरूरी होता है और अगर किसी को अनियमित पीरियड्स आते हैं तो उन्हें कुछ घरेलू उपाय किया जाना चाहिए और अगर इन उपायों से कोई समाधान नहीं निकल रहा है तो फिर आपको एक बार किसी डॉक्टर से पूछ लेना चाहिए.


पीरियड्स समय पर नहीं आने के कारण- Time per Periods nahi aane ke karan


बहुत सी महिलाओं को समय पर पीरियड्स नहीं आते हैं और फिर इसका खामियाजा उन्हें आगे चलकर स्वास्थ्य खराब करके चुकाना पड़ता है. सही समय पर पीरियड्स का होना अच्छा होता है लेकिन अगर पीरियड्स समय पर नहीं आते हैं तो ये एक गंभीर बात है. फिर जब वो आने लगते हैं या फिर अनियमित पीरियड्स में महिलाओं को असहनीय दर्द होता है. वैसे अगर पीरियड्स समय पर नहीं आ रहे हैं तो कुछ ऐसे कारण हो सकते हैं.

1.हार्मोन्स में बदलाव

2.ज्यादा तनाव में रहना

3.थायराइड, पीसीओएस या फिर ज्यादा वजन बढ़ना

4. सही पोषक तत्वों का नहीं लेना

5. दवाईयों का साइड इफेक्ट्स

6. हीमोग्लोबिन का कम होना


पीरियड्स रोकने के घरेलू उपाय- Period Rokne ke Upay


कभी-कभी पीरियड्स 7 दिनों से भी ज्यादा होने लगता है और इस दौरान महिलाओं को असहनीय दर्द और ब्लीडिंग से गुजरना पड़ता है. महिलाओं को पीरियड्स नहीं होने पर भी समस्या होती है और पीरियड्स ज्यादा होने पर भी समस्या रहती है और ये एक चिंताजनक बात है. कभी-कभी ब्लीडिंग ज्यादा होने पर कमजोरी, चक्कर आना और चिड़चिड़ापन ज्यादा होने लगता है और ऐसे में महिलाएं बिल्कुल परेशान हो जाती हैं. असल में पीरियड्स एक समस्या है जिसे महिलाओं को सहना ही पड़ता है लेकिन ये किसी को ज्यादा तो किसी को कम परेशान करता है. इन उपायों से रोकिए पीरियड्स..

नींबू पानी- नींबू पानी का उपयोग बहुत पुराना माना जाता है. ऐसा कई बार देखा गया है और एक रिसर्च में भी पाया गया है कि अगर नींबू पानी का सेवन माहवारी के दौरान किया जाए तो इससे होने वाली परेशानियां कम हो सकती है. नींबू में एसिडक पाया जाता है जो बॉडी को डिटोक्स करता है. सबसे पहले एक गिलास पानी लें और फिर इसमें नींबू का पस निकलकर पी लें.ऐसा आपको हर दिन करना चाहिए यकीनन आपको इससे आराम मिलेगा.

पेट की सिकाई- जब आप मासिक धर्म से हो तब आप इसे जल्दी बंद करने के लिए अपने पेट के निचले हिस्से की सिकाई प्रतिदिन करिए. इससे भी आपको राहत मिलेगी और जब हम पेट पर गर्म पानी से सिकाई करते हैं तो उससे ब्लीडिंग जल्दी हो जाती हैं और पीरियड जल्दी खत्म होते हैं साथ ही दर्द में भी राहत मिलती है. आपको एक प्लास्टिक की बोतल में गर्म पानी से 5 से 10 मिनट तक सिकाई करने से फायदा मिलता है.

सेब का सिरका- माहवारी को रोकने के लिए सेब का सिरका भी बहुत फायदेमंद होता है. इसका सेवन करने से शारीर में जो भी हानिकारक पदार्थ होता है निकल जाता है और इससे रक्त की प्रवाह भी धीमी होती है. माहवारी के दर्द में भी इसमें फायदा मिलता है. माहवारी को रोकने के लिए सेब का सिरका एक गिलास पानी में सेब के सिरके को मिलाकर पी लें. मासिक धर्म के समय पर इस उपाय को आप 3-4 बार दिन में जरुर करें.

विटामिन C - आपको अपने खाने में ऐसी चीजों का सेवन करना चाहिए जिसमें विटामिन सी पाया जाता हो. अंगूर, संतरा, नींबू, पपीता, मटर, टमाटर आदि और सब्जियां में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है. पीरियड्स होने के दौरान इसे नहीं पिएं, नहीं तो हर दिन आपको इसका सेवन करना चाहिए.

नारियल तेल- नारियल के तेल में एंटीओक्सिड़ेंट्स और फैटी एसिड गुणों शामिल होते हैं और जिन्हें अनियमित पीरियड्स होते हैं उनके लिए ये रामबाण है. अगर आपको नारियल तेल के स्वाद से कोई दिक्कत नहीं हैं तो आप सीधा 1 से 2 चम्मच नारियल तेल पी सकती हैं. मगर बहुत सी महिलाओं को इसका स्वाद पसंद नहीं होता है तो एक कप चाय के साथ एक या दो चम्मच नारियल का तेल पी लेा चाहिए, फायदा मिलता है.

पानी का सेवन- माहवारी के दिनों में आप जितना अधिक पानी पीती हैं आपको उतना भी फायदा मिलेगा. ऐसा इसलिए क्योंकि जितना आप पानी पियेंगी उतनी ही जल्दी आपका मासिक धर्म बंद होगा. मासिक धर्म के समय पानी ज्यादा पीने से न ही सूजन या दर्द में कमी आती है और सब ठीक हो जाता है.

योग और एक्सरसाइज- अगर आप पीरियड्स के दौरान ज्यादा दर्द से परेशान हैं तो आपको योग या एक्सरसाइज जरूर करना चाहिए. ऐसा इसलिए क्योंकि आप जिती फिट होंगी आपका वज़न उतना सही रहेगा और इससे आपके पीरियड्स का समय सही रहेगा और फिट बॉडी से पीरियड्स पर बहुत असर पड़ता है.


पीरियड्स समय पर नहीं आने पर करें ये काम- Do this for Irregular Periods


1.माहवारी समय पर नहीं आने के लिए सौंफ खाएं

2.पीरियड्स शुरु होने के एक हफ्ते पहले सौंफ का काढ़ा पीना शुरु करें.

3. तिल के बीज, जीरा और गुण के साथ खाएं.

4. कच्चा पपीता खाएं

5. आलू, बैंगन, मीट और कद्दू को पीरियड्स शुरु होने के एक हफ्ते पहले नहीं खाएं.

6. जिस खाने से पेट में कब्ज हो उन्हें खाने से बचें.



शब्द हैल्थ पर अन्य चर्चायें

© शब्द हैल्थ (health.shabd.in)

01
डॉ.स्नेहा दुबे
जनरल फिजीशियन
  • हमारे डॉक्टर से निःशुल्क जानिए की आपकी समस्या का सर्वोत्तम समाधान अंग्रेजी, आयुर्वेदिक, या फिर होम्योपैथिक मे से किसमे उपलब्ध है?
  • नमस्ते!
  • क्या आपको कोई स्वास्थ्य समस्या है?

    हाँ नहीं
  • अपनी समस्या बताइये

    बताइये
  • आप अपने पूरे परिवार का साल भर का मेडिकल कॉन्सल्टेशन केवल 997 रुपये मे पा सकते हैं।

    एक्टिवेट कीजिये